बिहार में सुशासन बाबू के नाम से मशहूर हैं ये नेता, जानिए इनके बारे में...

1 मार्च 1951, बख्तियारपुर, बिहार में जन्मे नितीश कुमार एक भारतीय राजनीतिज्ञ हैं जो वर्तमान में बिहार के मुख्य मंत्री हैं। इससे पहले नितीश कुमार ने 2005 से 2014 तक बिहार के सीएम और 2015 से 2017 तक भारत सरकार के एक मंत्री के रूप में भी कार्य किया। वे जनता दल यूनाइटेड राजनीतिक दल के प्रमुख हैं। 

नीतीश कुमार बिहार अभियांत्रिकी महाविद्यालय, के विद्यार्थी रहे हैं जो अब राष्ट्रीय तकनीकी संस्थान, पटना के नाम से पहचाना जाता हैं। वहाँ से उन्होंने विद्युत अभियांत्रिकी में उपाधि प्राप्त की थी। वे 1974 एवं 1977 में जयप्रकाश बाबू के सम्पूर्ण क्रांति आंदोलन में शामिल रहे थे एवं उस वक़्त के महान समाजसेवी एवं राजनेता सत्येन्द्र नारायण सिन्हा के काफी नजदीकी रहे थे। 1990 में वे पहली दफा केन्द्रीय मंत्रीमंडल में बतौर कृषि राज्यमंत्री शामिल हुए। 1991 में वे एक मर्तबा फिर से लोकसभा के लिए चुने गए और उन्हें इस बार जनता दल का राष्ट्रीय सचिव चुना गया तथा संसद में वे जनता दल के रहे। 1989 और 2000 में उन्होंने बाढ़ लोकसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा। 1998-1999 में कुछ वक़्त के लिए वे केन्द्रीय रेल एवं भूतल परिवहन मंत्री भी रहे, लेकिन अगस्त 1999 में गैसाल में हुई रेल दुर्घटना के बाद उन्होंने मंत्रीपद से त्यागपत्र दे दिया।

सन 2000 में वे पहली बार बिहार के मुख्यमंत्री बने लेकिन उन्हें सिर्फ सात दिनों में इस्तीफा देना पड़ा। उसी वर्ष वे फिर से केन्द्रीय मंत्रीमंडल में कृषि मंत्री बने। मई 2001 से 2004 तक वे बाजपेयी सरकार में केन्द्रीय रेलमंत्री रहे। 2004 के लोकसभा चुनावों में उन्होंने बाढ़ एवं नालंदा से अपना पर्चा दाखिल किया लेकिन वे बाढ़ से चुनाव हार गए।  2015 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने भाजपा के साथ गठबंधन कर के चुनाव लड़ा और बिहार के सीएम बने, जिस पद पर वे अब भी बने हुए हैं।

ये भी पढ़ें:-

अंडमान के एकांत कारावास में जेल की दीवारों पर कविताएं लिखते थे यह महान क्रांतिकारी

महान स्वतंत्रता सेनानी चंद्रशेखर आज़ाद के बारे में ये पांच बातें नहीं जानते होंगे आप

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -