देशी बम के धमाके से उड़ा था बांका का मदरसा, दम घुटने से हुई मौलाना की मौत

Jun 11 2021 12:14 PM
देशी बम के धमाके से उड़ा था बांका का मदरसा, दम घुटने से हुई मौलाना की मौत

बांका: बिहार के बांका जिले के एक मदरसे में हुए धमाके की जारी जाँच के बीच प्रशासन ने कुछ हैरान करने वाले खुलासे किए हैं। मीडिया रिपोर्ट्स में जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक के हवाले से बताया गया है कि यह मदरसा अवैध था। ब्लास्ट कंटेनर में रखे एक देसी बम के फटने के चलते हुआ था। वहीं, मौलाना के मौत का कारण दम घुटना बताया गया है।

मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि कई टीम अलग-अलग बिंदुओं पर जाँच कर रही है। इसमें मुख्य रूप से सेंट्रल आइबी, ATS और SIT शामिल है। जिलाधिकारी सुहर्ष भगत और एसपी अरविंद कुमार गुप्ता ने गुरुवार (10 जून 2021) को प्रेस वार्ता में बताया कि आईडी ब्लास्ट के सबूत नहीं मिले हैं। धमाका देसी बम से होने की बात सामने आई है। मौके से बम बाँधने में इस्तेमाल किया जाने वाला सुतली, कील और कंटेनर का टुकड़ा मिला है। बम कितना ताकतवर था यह SFL रिपोर्ट आने के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा। 

वहीं पुलिस अधीक्षक ने बताया कि जो देसी बम फटा वह मदरसे के एक कमरे में गेट के पास कंटेनर में रखा था। अभी तक मृत मौलाना की संदिग्ध गतिविधियों को लेकर भी कोई प्रमाण नहीं मिले हैं। वहीं डीएम ने बताया कि इस मदरसे का पंजीकरण भी नहीं था। यह 18-20 वर्षो से रैयती जमीन पर चल रहा था और 50-60 बच्चों को शिक्षा दी जा रही थी। ब्लास्ट में मदरसे का इमाम मौलाना अब्दुल मोबीन जख्मी हो गया था। बाद में उसकी मौत हो गई। मौलाना मदरसे में ही रहता था। धमाके के बाद उसके साँस की नली धुँआ भर गया। दम घुटने और भारी मलबे में दबने के कारण उसकी मौत हो गई। मामले में दो गाँव के बीच विवाद के एंगल से भी जांच की जा रही है।

कुलभूषण जाधव मामले में नरम पड़ा पाक, सजा के खिलाफ कर सकेंगे अपील

101 रुपए प्रति लीटर हुआ पेट्रोल, जानिए क्या है डीजल का भाव

अंतरराष्‍ट्रीय अदालत के आगे पाकिस्‍तान ने टेके अपने घुटने, अब भारत हो सकेगी कुलभूषण जाधव की वापसी?