इन्वेस्टर्स के लिए बड़ी खबर! वेदांता लिमिटेड का डिलिस्टिंग ऑफर हुआ विफल

वेदांता लिमिटेड इंडियन शेयर मार्केट से अपनी सूचीबद्धता समाप्त करने के लिए डिलिस्टिंग ऑफर लेकर आई थी। अनिल अग्रवाल के कंट्रोल वाली इस कंपनी का डिलिस्टिंग ऑफर फेल हो गया है। कंपनी अब इंडियन शेयर मार्केट में सूचीबद्ध रहेगी। इसे कंपनी के शेयरहोल्डर्स की बड़ी सफलता माना जा रहा है। वेदांता ने शनिवार को स्टॉक एक्सचेंज फाइलिंग में बताया कि कंपनी का डिलिस्टिंग ऑफर विफल हो गया है। इस सिलसिले में रविवार को एक विज्ञापन जारी किया जाएगा तथा इसकी तहरीर इन्वेस्टर्स को दे दी जाएगी।

वही स्टॉक एक्सचेंज को दी गई सुचना में वेदांता ने कहा है कि कंपनी को 125.47 करोड़ शेयरों के लिए बिड मिली, जबकि उसे शेयर मार्केट से डिलिस्ट होने के लिए 134 करोड़ शेयरों की आवश्यकता थी। ऐसे में कंपनी का यह ऑफर विफल हो गया है। इसके पश्चात् कंपनी ने स्वयं को डिलिस्ट करने के लिए मार्केट नियामक सेबी से एक दिन का वक़्त मांगा, किन्तु उसे अतिरिक्त वक़्त देने से मना कर दिया गया है। शुक्रवार को सेबी ने डिलिस्टिंग ऑफर के लिए वक़्त बढ़ाकर 7 बजे तक कर दिया था। 

वही वेदांता के प्रमोटर यदि शेयरधारकों के पास उपस्थित कुल 169.73 करोड़ शेयरों में से 134 करोड़ शेयर क्रय लेते मतलब बायबैक कर लेते तो शेयर मार्केट से कंपनी की लिस्टिंग समाप्त हो जाती। वही वेदांता ने बताया कि 5 अक्टूबर को ओपन हुई बिड से उसे 125.47 करोड़ शेयरों के लिए बिड मिली, जो शुक्रवार को बंद हो गई है। कंपनी को डिलिस्टिंग के लिए 134.12 करोड़ शेयर्स की आवश्यकता थी। तत्पश्चात, प्रमोटर्स की होल्डिंग 90 प्रतिशत से अधिक हो जाती, जो डिलिस्टिंग के लिए सेबी के नियमों के अनुसार आवश्यक था। 

फ्लिपकार्ट ने नागालैंड को बताया भारत के बाहर, बाद में मांगी माफ़ी

PUBG Corporation ने भारतीय वितरण अधिकारों के लिए भारती एयरटेल से की चर्चा

ATM से नहीं निकले पैसे, फिर भी अकाउंट से कट गई राशि, जानिए कैसे मिलेगा रिफंड

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -