शपथग्रहण समारोह के पहले बड़ा विस्फोट, जाने क्या है पूरी बात

रांची: झारखंड में झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) नेता हेमंत सोरेन की अगुवाई में बनने जा रही नयी सरकार के शपथग्रहण के पहले की नक्सलियों ने चुनौती पेश की है. जंहा प्रतिबंधित संगठन भाकपा माओवादी के उग्रवादियों ने खूंटी के अड़की थाना क्षेत्र के सेल्दा में  बीते शनिवार यानी 28 दिसंबर 2019 देर रात विस्फोटकों के जरिए सामुदायिक भवन को उड़ा दिया.

वहीं इस घटना के बाद एसडीपीओ आशीष कुमार महली के नेतृत्व में पुलिस बल ने मौके का जायजा लिया और उग्रवादियों की तलाश शुरू की. वहीं घटना के संबंध में महली ने बताया कि शुरुआती जांच के मुताबिक घटना में माओवादियों का हाथ नजर आ रहा है. स्थानीय लोगों ने बताया कि भवन बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया है. जंहा घटना की जानकारी स्थानीय लोगों को रविवार यानी 29 दिसंबर 2019 की सुबह मिली, वहीं हालांकि देर रात ग्रामीणों ने तेज आवाज सुनी थी, जंहा लेकिन दहशत के चलते वे अपने घरों से बाहर नहीं निकले.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार माओवादियों ने कुछ पोस्टर भी लगाए, जिनमें सरकारी भवनों में पुलिस कैंप नहीं लगाने की चेतावनी दी गई है. जंहा उन्होंने बताया कि हाल में संपन्न विधानसभा चुनाव के दौरान इस नवनिर्मित भवन में पुलिस कैम्प बनाया गया था.

नागरिकता कानून पर जारी बवाल को थामेगा संघ, बनाया ये मास्टर प्लान

मिताली ने जीता मिस इंडिया खादी प्रतियोगिता, बनी प्रथम रनरअप

गुजरात में बड़ी मानव तस्करी का पर्दाफाश, पुलिस ने 125 बच्चों को कराया रेस्क्यू

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -