यूजर्स को धोखा दे रहा है Google, लगा ये बड़ा आरोप

Google पर लोकेशन ऑफ करने के पश्चात् भी उपयोगकर्ताओं की लोकेशन साझा करने का इल्जाम लगा है. तीन अमेरिकी प्रदेशों के चार अटॉर्नी जनरल ने Google के विरुद्ध मामला दायर किया है. इसमें गूगल पर लोकेशन शेयरिंग का इल्जाम लगा है. मामले में बताया गया है कि Google ने उपभोक्ताओं को धोखा दिया है कि कैसे उनकी लोकेशन को ट्रैक किया जाता है तथा कंपनी इसे कैसे यूज़ करती है. इल्जाम है कि गूगल ने गलत जानकारी दी है कि ट्रैकिंग को रोककर उपयोगकर्ताओं के पास प्राइवेसी प्रोटेक्शन की एबिलिटी होती है.

मामले के अनुसार, गूगल ने उपयोगकर्ताओं को यह भरोसा दिलाया है कि उनका कौन-सा डेटा कंपनी कलेक्ट कर रही है तथा कैसे Google उनकी डिटेल्स का उपयोग कर रहा है, इसका पूरा कंट्रोल उनके हाथ में है. हालांकि, ऐसा पाया गया है कि Google प्रोडक्ट्स का उपयोग करने वाले उपयोगकर्ता कंपनी को अपनी लोकेशन कलेक्ट, स्टोर तथा उससे लाभ कमाने से रोक नहीं सकते हैं. 

साथ ही रिपोर्ट में बताया गया है कि अपने कारोबार को बढ़ाने के लिए Google उपभोक्ताओं के निजी डेटा का उपयोग करता है, जिसमें उनकी लोकेशन डेटा भी सम्मिलित है. कंपनी इस डेटा का उपयोग उपभोक्ताओं को Advertisement दिखाने में करती है. गूगल पर इल्जाम लगा है कि वह लोकेशन डेटा कलेक्शन प्रैक्टिस को छिपाने तथा उपभोक्ताओं के लिए ट्रैक होने से बचने को कठिन बनाने के लिए बहुत रूपये खर्च करती है. वही Google के स्पोकपर्सन ने मुकदमे में लगाए गए सभी इल्जामों से मना किया है. रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी के स्पोकपर्सन José Castañeda ने कहा, 'अटॉर्नी जनरल गलत तथा हमारी सेटिंग के पुराने दावों के आधार पर मामला ला रहे हैं. हम हमेशा प्रोडक्ट में निजी फीचर जोड़ते हैं तथा उपयोगकर्ताओं को उनके लोकेशन डेटा को कंट्रोल देते हैं.'

इस गणतंत्र दिवस पर Google बना अनोखा डूडल

गणतंत्र दिवस पर अमेज़न पर मिल रहा हजारों रूपए का इनाम जीतने का मौका

आधी कीमत में भी आप चार्ज कर पाएंगे अपनी इलेक्ट्रिक कार

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -