नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध के कारण हजारिका परिवार नहीं लेगा भारत रत्न

Feb 12 2019 09:18 AM
नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध के कारण हजारिका परिवार नहीं लेगा भारत रत्न

नई दिल्ली : देश में संगीत और कला के क्षेत्र में अपने योगदान के लिए मशहूर डॉक्टर भूपेन हजारिका को भारत रत्‍न देने का ऐलान किया गया था. लेकिन अब उनके परिवार ने भारत रत्न नहीं लेने का फैसला किया है. नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध के कारण हजारिका के परिवार ने ये घोषणा की है. बता दें असम में काफी वक्त से इस बिल को लेकर विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है. विरोध के चलते कई लोगों को हिरासत में भी लिया गया. 

अभी घर ले आएं सुजुकी की यह गाडी, मिल रहा 80 हजार रु तक का डिस्काउंट

कई गानों में दे चुके है अपनी आवाज 

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार भूपेन हजारिका न केवल हिंदी बल्कि असमिया और बंगाली भाषाओं के कलाजगत के प्रमुख स्तंभ रहे. पद्म और दादा साहेब फालके सहित अनेक प्रतिष्ठित सम्मानों से नवाजे गए. हजारिका ने पहला गीत सिर्फ 10 बरस की उम्र में गाया था. वहीं इस साल उन्हें भारत रत्न देने का ऐलान किया गया था. हालांकि नागरिकता कानून के विरोध के कारण अब उनका परिवार ये सम्मान नहीं लेगा. बता दें नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर असम में काफी वक्त से विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है.

देश के इन राज्यों में जारी है स्वाइन फ्लू का कहर, आज भी इतनों की हुई मौत

जानकारी के लिए बता दें इस पुरे मामले में भूपेन हजारिका के बेटे तेज हजारिका का कहना है कि नागरिकता को लेकर एक अलोकप्रिय बिल पास करने की योजना चल रही है. जिसके लिए उनके पिता के नाम का इस्तेमाल किया जा रहा है. इस कारण उनके बेटे तेज हजारिका ने नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध में भारत रत्न सम्मान लौटाने का निर्णय किया है.

जल्द ट्रेक पर उतरेगी वंदे भारत एक्सप्रेस, यात्रियों को करना होगा यह कार्य

गोवा के मंत्री ने ऑनलाइन खेल PUBG को बताया राक्षस

उत्तराखंड विधानसभा : सत्र शुरू होते ही जहरीली शराब के मुद्दे पर हुआ जोरदार हंगामा