किस्मत दे रही है धोखा ही धोखा तो भादो के महीने में कर लें यह सरल उपाय

Aug 21 2019 05:40 PM
किस्मत दे रही है धोखा ही धोखा तो भादो के महीने में कर लें यह सरल उपाय

आप सभी इस बात से वाकिफ ही होंगे कि बीते 16 अगस्त से हिंदू पंचांग का छठां महीना यानि भादो का महीना शुरू हो गया है, जो 14 सिंतबर तक चलने वाला है। ऐसे में ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक़ भादो के इस महीने को भाद्रपद के नाम से पुकारा जाता है। वहीं इस महीने में हिंदू धर्म के बहुत महत्वपूर्ण पर्व व त्यौहार आते हैं जो इस महीने को अधिक खास बनाने का काम करते हैं। ऐसे में इस महीने के सबसे बड़े त्यौहार में से एक जन्माष्टमी और गणेश चतुर्थी भी मानी जाती है. जी हाँ, इन दोनों त्यौहारों को पूरा देश पूरी धूम-धाम से मनाता है और भादो में मुख्य रूप से श्री कृष्ण और गणपति जी का पर्व ही मुख्य माना जाता है. इसी के साथ जो भी भाद्रपद में इन दोनों से जुड़े विभिन्न उपाय आदि करता है उनके जीवन में लाभ ही लाभ होना शुरू हो जाता है. अब आज हम आपको इन दोनों से जुड़े कुछ उपाय बताने जा रहे हैं जो आपको करना चाहिए.


उपाय - 


1. बढ़िया स्वास्थ्य के लिए भादो में भगवान श्रीकृष्ण के मंदिर में जाकर दूध दान करना चाहिए क्योंकि ऐसी मान्यता है कि ऐसा करने से स्वास्थ्य संबंधित सभी परेशानियों से छुटकारा मिलता है।

2. कहते हैं जीवन के हर मोड़ पर अगर किस्मत बार-बार धोखा दे रही है तो भादो का पूरा माह श्रीकृष्ण मंदिर में जाकर सफ़ेद फूल अर्पित करना चाहिए और उसके बाद में वहां अर्पित किए गए अन्य फूल अपनी जेब में रख लेना चाहिए.

3. कहते हैं अगर आप बिना मतलब के वाद-विवाद में फंसे हैं तो उससे निकलने के लिए इस माह में बेलपत्र पर मावा रखकर इसे शिवलिंग पर अर्पित करना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से वह विवाद आपसे हट जाएगा.

4. कहते हैं नौकरी के क्षेत्र में तरक्की पाने और आगे बढ़ने के लिए भादो के महीने में जितना हो सके उतना भगवान श्रीकृष्ण को खीर का भोग लगाना चाहिए और इसी के साथ ही खीर लोगों में भी बांटना चाहिए.

5. कहा जाता है बिज़नेस में उन्नति पाने के लिए भगवान कृष्ण पर सफ़ेद धागा अर्पित करना चाहिए और इसके बाद उस धागे को अपने गले में धारण कर लेना चाहिए.

6. कहा जाता है धन की कमी को दूर करने के लिए घर के अंदर शंख की स्थापना करनी चाहिए.

जन्माष्टमी पर इस शुभ संदेश से दे अपनों को बधाई

इस तरह श्री कृष्णा ने किया था पूतना का उद्धार, जानिए कथा

जन्माष्टमी के दिन किया था श्री कृष्णा ने शकटासुर वध, जानिए कथा