मानसून में घूमने के लिए बेस्ट हैं ये वाटरफॉल्स

मानसून में घूमने के लिए बेस्ट हैं ये वाटरफॉल्स

बारिश में घूमने के लिए खास जगह तलाश रहे हैं तो आपको बता दें कि कौनसी जगह इस समय लिए बेस्ट रहेगी. इसके लिए वॉटरफॉल जाना एक सही ऑप्शन हो सकता है.  इसलिए आज हम आपके लिए देश के कुछ ऐसे झरनों की जानकारी लेकर आए हैं जो बरसात में रोमांच पैदा करते हैं और दिल को खुश कर देते हैं.  

जोग वॉटरफॉल, कर्नाटक
जोग प्रताप महाराष्ट्र और कर्नाटक की सीमा पर शरावती नदी पर स्थित है. इसका जल 250 मीटर की उंचाई से गिरकर बड़ा सुंदर दृश्य उपस्थित करता है. इसका एक अन्य नाम जेरसप्पा भी है. इस वॉटरफॉल(जल प्रपात) की उंचाई 830 फीट है जो भारत का दूसरा सबसे ऊंचा वॉटरफॉलहै. इस फाल को यूनेस्को की ओर से दुनिया के सबसे अच्छे पर्यावरणीय स्थलों में से एक घोषित किया गया है.

नोहकालीकाई वॉटरफॉल
चेरापूंजी के समीप नोहाकालीकाई वॉटरफॉल भारत का सबसे उंचा जल प्रपात है. इस जल प्रताप के पास स्थित खड़ी चट्टान से छलांग लगाने वाली स्थानीय लड़की का लिकाई के नाम पर इस जल प्रताप का नाम नोहकालीकाई पड़ा.

दूध सागर, गोवा
दूधसागर भारत का एकमात्र झरना है, जो दो राज्यों की सीमा पर स्थित है. गोवा-कर्नाटक बॉर्डर से मंडोवी नदी गुजरती है, जिस पर दूधसागर झरना स्थित है. पणजी से इसकी दूरी लगभग 60 किमी है. यहां मानसून के दौरान पर्यटकों का हुजूम उमड़ता है. दूधसागर झरने को 'मिल्क ऑफ सी' भी कहा जाता है.

सावन में जरूर करें इन 5 अद्भुत शिव मंदिरों के दर्शन, देख सकते हैं खूबसूरत नज़ारा

रोड ट्रिप प्लान कर रहे हैं ये जगह होंगी बेस्ट..