सीएम ममता बनर्जी ने कोवैक्सिन की मंजूरी में तेजी लाने के लिए पीएम मोदी को लिखा पत्र

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा कोवैक्सिन की जल्द मंजूरी के लिए हस्तक्षेप करने की मांग की। अनुमोदन के बिना, भारत बायोटेक जैब लेने वाले लोगों को विदेश यात्रा करने में समस्या का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि देश भर से बड़ी संख्या में छात्र हर साल उच्च अध्ययन के लिए विदेश यात्रा करते हैं और उनमें से कई ने खुद को कोवैक्सिन का टीका लगवाया है।

सीएम ने अपने पत्र में कहा कि उनकी सरकार शुरू से ही ''कोविशील्ड और कोवैक्सिन दोनों प्राप्त कर रही है''। उन्होंने कहा कि राज्य में निजी क्षेत्र ने भी दोनों टीकों की खरीद और प्रशासन किया है। ''उन्हें बाद में पता चला कि उनका टीकाकरण प्रमाणपत्र विदेश में मान्य नहीं है। ये छात्र अब अपनी अगली कार्रवाई को लेकर असमंजस में हैं और उनका करियर दांव पर लग गया है,'' बनर्जी ने गुरुवार को मोदी को लिखा। उन्होंने कहा कि कई देश केवल उन्हीं लोगों को प्रवेश की अनुमति दे रहे हैं जिन्होंने डब्ल्यूएचओ द्वारा अनुमोदित टीके लिए हैं।

''इसलिए, मैं आपके हस्तक्षेप का अनुरोध करता हूं ताकि डब्ल्यूएचओ से कोवैक्सिन के लिए शीघ्र स्वीकृति प्राप्त हो ताकि छात्रों को किसी भी समस्या का सामना न करना पड़े। इससे नौकरी, शिक्षा, व्यवसाय और अन्य उद्देश्यों के लिए विदेश यात्रा करने वाले लोगों को भी फायदा होगा। उन्होंने केंद्र से यह सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाने का भी आग्रह किया था कि कोवैक्सिन से संक्रमित लोगों को उनकी विदेश यात्रा के दौरान किसी भी प्रतिबंध का सामना न करना पड़े।

ईरान में नए राष्ट्रपति के आने के बाद परमाणु वार्ता पर मंडरा रहा है संकट

'जब सियासी वकीलों पर भरोसा कर सकते हो, तो जज पर क्यों नहीं ?' जस्टिस चंदा ने सुरक्षित रखा फैसला

आंध्र के मुख्यमंत्री जगन रेड्डी ने दिशा ऐप के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देने पर दिया जोर

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -