बहुत सी बीमारियों का अचूक इलाज है पीपल

बहुत सी बीमारियों का अचूक इलाज है पीपल

पीपल को हमारे देश में आस्था के नजरिये से देखा जाता है. पीपल को हजारो वर्षों से औषधि के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता रहा है. इस पेड़ का हर भाग ख़ास है और बहुत सी बिमारियों के इलाज में भी लाभदायक है. पीपल के पेड़ की पत्तियां रक्त पित्त नाशक, रक्त शोधक, सूजन मिटाने वाली, शीतल और रंग निखारने वाली मानी जाती हैं। पीपल के पेड़ की छाल के अंदर के हिस्से को निकाल लें और इसे सुखा लें। सूखने के बाद इसका बारीक चूर्ण बना लें और पानी के साथ दमा रोगी को दें। पीपल की जड़ों को काट लें और उसे पानी में अच्छे से भिगोकर इसका पेस्ट बना लें। और इस पेस्ट को नियमित चेहरे पर लगाएं। ऐसा करने से चेहरे की झुर्रियां कम होने लगती है. हाथ-पांव कटने-फटने पर पीपल के पत्तों का रस या दूध लगाएं। इससे फटने वाली जगह धीरे-धीरे भर जाएगी।

पीलिया होने पर इसके 3-4 नए पत्तों के रस को मिश्री मिलाकर शरबत पिलाएं, 3-5 दिन तक दिन में दो बार दें। इसकी ताजा छाल को जल में भिगोकर कमर में बांघने से ताकत आती है। यूनानी चिकित्सा में इसके छाल को वीर्य वर्धक माना गया है। इसका अर्क खून को साफ करता है। इसकी छाल पीने से पेशाब की जलन,पुराना सुजाक मिट जाता है. पीपल के दातुन से दांतों के रोगों जैसे दांतों में कीडा लगना, मसूडों में सूजन, पीप या खून निकलना,दांतों के पीलापन,दांत हिलना आदि में लाभ देता है। पीपल का दातुन मुंह की दुर्गध को दूर करता है और साथ ही साथ आंखों की रोशनी भी बढती है।

बड़े काम की है कलौंजी

इन घरेलु उपायों से भी ठीक होता है पायरिया

भूख बढ़ाता है मुनक्का

 

?