बिजली कटौती पर कमलनाथ के अफसर का बेतुका बयान, चमगादड़ों को बताया जिम्मेदार

बिजली कटौती पर कमलनाथ के अफसर का बेतुका बयान, चमगादड़ों को बताया जिम्मेदार

भोपाल: मध्यप्रदेश में अघोषित बिजली कटौती का मुद्दा एक बार फिर तूल पकड़ने लगा है और बिजली कंपनियों के अधिकारी इस दिक्कत से इस कदर परेशान हैं कि एक समीक्षा बैठक के दौरान एक अधिकारी ने इस दिक्कत के लिए चमगादड़ों को दोषी ठहरा दिया. बता दें कि मध्य प्रदेश पॉवर सरप्लस राज्य है. ऐसे में गर्मी के मौसम में अघोषित बिजली कटौती से राज्य में सियासी पारा चढ़ रहा है.

राज्य में 15 वर्ष बाद सत्ता में लौटी कांग्रेस सरकार ने बिजली आपूर्ति में बाधा के लिये पूर्ववर्ती भाजपा के कार्यकाल के दौरान खरीदे गए ट्रांसफार्मर की खराब गुणवत्ता को दोषी बताया था. ऊर्जा मंत्री प्रियव्रत सिंह ने इस बारे में प्रेस वालों से कहा है कि 14 जून को भोपाल जिले की समीक्षा बैठक के दौरान पॉवर कंपनी के एक अधिकारी ने कहा कि भोपाल के बड़े तालाब से सटे इलाकों की लाइनों पर चमगादड़ों के लटकने की वजह से फाल्ट हो रही हैं.

उन्होंने कहा है कि अधिकारियों की बात पर उन्हें विश्वास नहीं हुआ और उन्होंने उन्हें आपूर्ति लाइनों को इंसुलेशन कर दुरुस्त करने का आदेश दिया. मंत्री ने बताया कि उन्होंने चमगादड़ों को बिजली फाल्ट के लिए जिम्मेदार बताने वाले अधिकारी को फटकार लगाई. उन्होंने कहा है कि यह फाल्ट के बहुत से वजहों में से एक हो सकता है, किन्तु यह मुख्य कारण नहीं हो सकता. 

मायावती का वंशवाद फिर हुआ उजागर, अपने भाई और भतीजे को दिया ये पद

अगर जिन्दा होते डॉ श्यामा प्रसाद, तो उन्हें भाजपा की सियासत पर शर्म आती - टीएमसी

दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी को मिली जान से मारने की धमकी, मचा हड़कंप