बसंत पंचमी पर राशिनुसार कर लें यह उपाय, बन जाएंगे लखपति

Feb 07 2019 10:20 PM
बसंत पंचमी पर राशिनुसार कर लें यह उपाय, बन जाएंगे लखपति

बसंत पंचमी का त्यौहार इस बार 9 और 10 फरवरी को मनाए जाने की बात सामने आई है. ऐसे में बसंत पंचमी के दिन विद्या और बुद्धि की देवी सरस्वती की पूजा अचर्ना करते हैं. कहते हैं इस दिन राशि अनुसार अगर उपाय कर लिए जाए तो सब कुछ आसान हो जाता है और सफल भी. तो आइए आज हम आपको बताते हैं कैसे और कौन से उपाय आप बसंत पंचमी पर कर सकते हैं. आइए बताते हैं. 

मेष- इस राशि के लोगो को विद्या और बुद्धि के लिए हनुमानजी की पूजा करनी चाहिए व हनुमान जी के बांए पैर से सिंदूर लेकर तिलक करना चाहिए. 

वृष- इस राशि के लोगो को इमली के 22 पत्ते लेकर उसमें से 11 पत्ते देवी सरस्वती को चढ़ाएं और शेष पत्ते अपने पास रखने से लाभ होने लगेगा.

मिथुन- इस राशि के लोगो को वसंत पंचमी के दिन विद्या और बुद्धि के लिए भगवान गणेशजी को 21 दूर्वा चढ़ा देना चाहिए लाभ होगा.

कर्क- इस राशि के लोगो को वसंत पंचमी के दिन सफलता के लिए देवी सरस्वती को आम के फूल (बोर) चढ़ाने चाहिए, इससे बहुत बड़ा मुनाफ़ा हो सकता है.

सिंह- इस राशि के लोगो को वसंत पंचमी के दिन गायत्री मंत्र का जप करना लाभदायक होगा.

कन्या- इस राशि के लोगो को वसंत पंचमी के दिन किताबें का दान करना शुभ रहेगा.

तुला- इस राशि के लोगो को वसंत पंचमी के दिन सरस्वतीजी की कृपा प्राप्त करने के लिए ब्राह्मण कन्या को सफेद वस्त्र दान करने से लाभ मिलेगा.

वृश्चिक- इस राशि के लोगो को वसंत पंचमी के दिन सफेद फूलों से देवी सरस्वती की पूजा करने से लाभ होगा.

धनु- ज्योतिष के अनुसार धनु राशि के लोगो को इस दिन सफलता पाने के लिए देवी सरस्वती को सफेद चंदन चढ़ाना लाभवर्धक होगा.

मकर- इस राशि के लोगो को वसंत पंचमी के दिन ब्राम्ही औषधी का सेवन करने से हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त हो सकती है.

कुंभ- इस राशि के लोगो को वसंत पंचमी के दिन देवी सरस्वती को प्रसन्न करने के लिए कन्या को खीर का प्रसाद खिलाना चाहिए.

मीन- इस राशि के लोगो को वसंत पंचमी के दिन विधारा या अपामार्ग की जड़ दाहिनी हाथ में बाधने से सफलता मिल सकती है.

परीक्षा में अच्छे अंक लाने के लिए बसंत पंचमी पर करें इन मन्त्रों का जाप

आज है शनि का दिन, भूलकर भी ना करें बिना समय देखे प्रपोज वरना मिलेगी केवल ना

गौरी तृतीया पर कुँवारी कन्या जरूर पढ़े यह व्रत कथा, मिलेगा मचाहा वर