बसंत पंचमी पर वाणी दोष दूर करने के लिए करें यह उपाय

हर साल मनाई जाने वाली बसंत पंचमी इस साल  5 फरवरी को है। आप सभी को बता दें कि इस दिन छात्र और शिक्षक मां सरस्वती की विशेष पूजा-अर्चना करते हैं। वहीं धार्मिक मान्यता है कि इस दिन कुछ विशेष उपाय करने से वाणी दोष और पढ़ाई में मन न लगने जैसी बच्चों की समस्याओं का समाधान हो सकता है। अब आज हम आपको उन्ही उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं।

बसंत पंचमी के दिन माता सरस्वती की विधि विधान से पूजा-अर्चना की जाती है। जी दरअसल ऐसी मान्यता है कि ज्ञान और वाणी की देवी होने के कारण माता सरस्वती की उपासना करने वाला मूर्ख भी विद्वान बन जाता है। ऐसे में अगर किसी बच्चे की वाणी से जुड़ी कोई समस्या है तो वह भी दूर हो सकती है। वहीं ज्योतिष के अनुसार अगर बच्चे में किसी तरह का वाणी दोष है या उसका मन पढ़ाई में नहीं लगता है तो बसंत पंचमी के दिन कुछ उपाय करने से बच्चे की परेशानी दूर हो सकती है। इसके अलावा बच्चे का मन पढ़ाई में न लग रहा हो या बच्चे को वाणी दोष की परेशानी हो तो बसंत पंचमी के दिन यह उपाय कर सकते हैं।

वाणी दोष दूर करने के लिए ये उपाय करें- बसंत पंचमी के दिन बच्चे के वाणी दोष के लिए उपाय कर सकते हैं। अगर किसी बच्चे को वाणी दोष है तो बसंत पंचमी के दिन उसकी जीभ पर चांदी की सलाई या पेन की नोक से केसर की मदद से 'ऐं' लिख दें। ऐसी मान्यता है कि इससे बच्चे की जुबान ठीक हो सकती है।

* बच्चा पढ़ाई से जी चुराता हो तो करें यह काम- बच्चे का मन पढ़ाई में नहीं लगता, तो बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती को हरे रंग फल अर्पित करना चाहिए।

* बच्चे के स्टडी रूम में माता सरस्वती का एक चित्र रखें और बच्चे को पढ़ाई करने से पहले नियमित रूप से माता को हाथ जोड़ कर प्रणाम करने के लिए कहें।

* सरस्वती पूजा के बाद बच्चे की जीभ पर शहद से ॐ बनाने से बच्चे की बुद्धि में वृद्धि होती है।

5 फरवरी को है बसंत पंचमी, जानिए क्यों होता है इस दिन पीले रंग का महत्व?

आकस्मिक मृत्यु का खतरा टालता है काला कुत्ता, रोटी खिलने से मिलती है कर्ज से मुक्ति

प्यार में सफलता पाने के लिए करें इलायची का ये टोटका

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -