अमेरिकी कांग्रेस में अंतिम बार सुनाई दी ओबामा की स्पीच

Jan 13 2016 03:37 PM
अमेरिकी कांग्रेस में अंतिम बार सुनाई दी ओबामा की स्पीच

वाॅशिंगटन : अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अमेरिकी कांग्रेस के अपने आखिरी स्टेट आॅफ द यूनियन एड्रेस में आतंकवाद और दुनिया के सामने मंडराते खतरे पर चर्चा की। उन्होंने कहा कि विश्व के लिए अलकायदा और आईएसआईएस एक परेशानी बने हुए हैं। अमेरिका को इससे सीधा खतरा मिला हुआ है। कांग्रेस को अपने आखिरी स्टेट आॅफ द यूनियन एड्रेस में बराक ओबामा द्वारा कहा गया कि अलकायदा और आईएसआईएस द्वारा अमेरिका को अधिक खतरा हो सकता है।

विश्व में कई ऐसे आतंकी हैं जिनके लिए मानव जीवन का कोई मोल नहीं है। बराक ओबामा का यह 8 वां स्टेट आॅफ द यूनियन एड्रेस था। उनका कहना था कि अलकायदा और आईएसआईएस जैसे आतंकी समूह लोगों को बरगलाने का कार्य भी कर रहे हैं। एक बड़ी बात यह है कि इस सिलसिले में वे इंटरनेट का बड़े पैमाने पर उपयोग कर रहे हैं। वे अपने अमेरिकी सहयोगियों को कमजोर करने में लगे हैं। 

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने यह भी कहा कि आईएसआईएस को पूरी तरह से समाप्त करने पर ही अमेरिका का ध्यान होना चाहिए। ओबामा द्वारा यह भी कहा गया है कि विश्व के लिए यह आतंक की एक बड़ी चुनौती है। कहीं यह विश्व युद्ध न बन जाए।

ओबामा ने पाकिस्तान का नाम लेते हुए कहा कि ISIS के बिना भी, दुनिया के विभिन्न हिस्सों में, पश्चिम एशिया में, अफगानिस्तान और पाकिस्तान में, मध्य अमेरिका, अफ्रीका और एशिया के हिस्सों में दशकों तक अस्थिरता बनी रहेगी। इनमें से कुछ जगहें नए आतंकी नेटवर्कों के लिए भले ही पनाहगाह बनी हों, लेकिन अन्य लोग जातीय संघर्ष, भुखमरी और शरणार्थियों की समस्या से भी जूझ रहे हैं।

अमेरिका के राष्ट्रपति द्वारा इस मामले में कहा गया है कि बड़े पैमाने पर आतंकी अपार्टमेंट और गैराजों में साजिश रचते हैं। यह नागरिकों के लिए एक बड़ा खतरा है। इस तरह की बात हमारे राष्ट्रीय अस्तित्व के लिए खतरा नहीं है। उन्होंने कहा कि ये आतंकी संगठन विश्व के बड़े धर्मों में से एक धर्म के प्रतिनिधि हैं मगर इनकी बातें कुछ अजीब सी हैं। ये उन्मादी हैं हत्यारे हैं इसके लिए इन्हें समाप्त करना बहुत आवश्यक है।

उनका कहना है कि अमेरिका यही कार्य कर रहा है। अमेरिका के राष्ट्रपति द्वारा यह कहा गया कि लगभग 10 हजार हवाई हमलों के ही साथ उनके नेतृत्व को समाप्त करने का प्रयास किया जा रहा है। इन आतंकियों के आर्थिक स्त्रोत, हथियार और तेल के भंडारों को समाप्त करने की कार्रवाई भी की जा रही है। दूसरी ओर सीरिया में इनके विरूद्ध जो बल लड़ाई कर रहे हैं उन्हें प्रशिक्षण दिया जा रहा है। उन्हें हथियार उपलब्ध करवाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि आईएसआईएल को इस तरह का सबक मिल पाए इसके लिए कार्रवाई की जाना जरूरी है।