दक्षिण कोरिया का राष्ट्रपति बनने के कयासों का बान की मून ने किया खंडन

सियोल : संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की मून ने उन खबरों का खंडन किया है, जिसमें कहा गया था कि उनकी हालिया दक्षिणी कोरिया की यात्रा राष्ट्रपति पद की दावेदारी को भांपने के लिए थी। उन्होने कहा कि इस मामले में उनकी टिप्पणियों को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया गया है। पिछले सप्ताह बान दक्षिणी कोरिया की 6 दिवसीय यात्रा पर गए थे। इस दौरान अफवाह उड़ने लगी थी कि उनकी यह यात्रा 2017 में होने वाले राष्ट्रपति पद के चुनाव की होड़ में शामिल होने के लिए थी।

इस साल के अंत में बान यूएनओ के महासचिव के पद से सेवा निवृत होने वाले है। बान ने कहा था कि एक आम नागरिक की तरह दक्षिणी कोरिया लौटने के मामले में वो आम लोगों से राय लेना चाहेंगे। उनके इस बयान को स्थानीय मीडिया ने राष्ट्रपति चुनाव से जोड़ दिया था। उन्होने कहा कि वो हैरान है कि कैसे उनके बयानों को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया गया।

गैर सरकारी संगठनों के संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन में शिरकत करते हुए बान ने ग्योंग्झू में कहा कि मैं उम्मीद करता हूं कि आप यहां मेरी गतिविधियों के बारे में ज्यादा व्याख्या नहीं करेंगे या अटकलें नहीं लगाएंगे । उन्होंने कहा कि असल में, मैं ऐसा व्यक्ति हूं, जो बेहतर जानता है कि मेरी क्या योजना है और मुझे क्या निर्णय लेना होगा।

हालांकि 71 वर्षीय बान ने राष्ट्रपति पद से जुड़ी महत्वाकांक्षाओं से सीधे तौर पर इंकार नहीं किया है और संयुक्त राष्ट्र प्रमुख पद का कार्यकाल समाप्त होने वाला है। ऐसे में दक्षिण कोरिया में उनके इरादों से जुड़ी अटकलें तेज ही होंगी। दक्षिण कोरिया में बान बेहद लोकप्रिय हैं । संयुक्त राष्ट्र में उनके पद को राष्ट्रीय गौरव से जोड़कर देखा जाता है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -