कई बार देश का नाम रोशन कर चुके है बलबीर सिंह दोसांझ

इंडियन हॉकी के दिग्गज बलबीर सिंह सीनियर को अब तक का सबसे अच्छा सेंटर-फॉरवर्ड खिलाड़ी कहा जाता था। 1948, 1952 और 1956 में भारतीय हॉकी टीम की ओलंपिक गोल्ड की दूसरी हैट्रिक के उपरांत उनके खेल कौशल ने देश को कई बार खुशियां मनाने का मौका दिया और आज़ादी के बाद के वर्षों में एक अलग पहचान बनाने में सहायता की है।

पंजाब में एक स्वतंत्रता सेनानी करम कौर और दलीप सिंह दोसांज के घर जन्मे बलबीर सिंह के शुरुआती कई वर्ष उनके पिता के बिना ही बिताए थे, जो हमेशा उस बीच यात्रा करते रहते थे और कई बार जेल चले जाते थे। हॉकी ने उन्हें कम उम्र से ही मंत्रमुग्ध किया था। वह जब 5 वर्ष के थे, तभी से उन्होंने इस खेल को खेलना शुरू की जा चुकी थी। फिर जब 12 वर्ष की आयु में उन्होंने 1936 में भारतीय हॉकी टीम को तीसरा ओलंपिक गोल्ड मेडल जीतते हुए देखा तो बलबीर सिंह सीनियर को पता चल चुका था कि उन्हें अपने जीवन में आगे क्या करना होगा।

उन्होंने एक गोलकीपर के तौर पर अपनी शुरुआत की और फिर बैक फोर में खेलने लग गए थे । लेकिन उन्हें अपने हुनर का सही अंदाज़ा पहली बार तब हुआ, जब एक स्ट्राइकर के तौर पर उन्हें स्थानीय टूर्नामेंट में खेलने का खास अवसर मिलने वाला है। अपनी असली पहचान मिली। 3 ओलंपिक विजेता टीमों का हिस्सा होने के अलावा, बलबीर सिंह सीनियर ने 1958 में टोक्यो, जापान में खेले गए एशियन खेलों में इंडियन हॉकी टीम के साथ रजत पदक भी जीता था। बता दें कि उन्होंने 1957 में भारत के चौथे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्म श्री से सम्मानित होने वाले पहले इंडियन खिलाड़ी थे।

बलबीर सिंह सीनियर ने कई सालों तक पंजाब खेल विभाग में भी काम किया और उपरांत में भारतीय हॉकी टीम के कोच के रूप में वह कार्यरत थे। बता दें कि एक कोच के रूप में, उन्होंने आज तक (1975 में) इंडिया को एकमात्र हॉकी  विश्व कप खिताब जीतने में भी सहायता की। व्यापक रूप से इस दिग्गज को हॉकी इतिहास के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से एक कहा जाता है।

स्टेडियम में जीतकर मुंबई की जीत की प्रार्थना करेंगे कोहली, क्योंकि यदि दिल्ली जीती तो...

मैच हार कर भी 'दिल' जीतना किसे कहते हैं ? रिद्धिमान सहा और उमेश यादव ने दिखा दिया

महिला बॉक्सिंग में निकहत के जीतने पर इन दिग्गजों ने दी बधाई

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -