अर्थ्राइटिस को कम करता बाजरा, ऐसे हैं अनेक फायदे

अर्थ्राइटिस को कम करता बाजरा, ऐसे हैं अनेक फायदे

ज्यादातर लोग गेहू की रोटी ही खाना पसंद करते हैं, लेकिन बात की जाए पहले के लोगों की तो वो गेहूं के साथ मोटा अनाज (जौ, चना , बाजरा ) भी खाते थे. आज भी कई लोग इस तरह का खाना पसंद करते हैं जिसके कई फायदे उनके शरीर को होते हैं. मोटे अनाज से उन्हें पौष्टिक तत्व मिलते थे और वो तंदुरूस्त रहते थे. आजकल लोगों ने मोटा अनाज खाना छोड़कर केवल गेहूं का उपयोग करना शुरू कर दिया है. इससे उन्हें पर्याप्त मात्रा में पौष्टिक तत्व नहीं मिल पाते हैं. आपकी जानकारी के लिए बता दें, ज्वार, बाजरा, रागी तथा अन्य मोटे अनाज उदाहरण के लिए मक्का , जौ , जई आदि पोषण स्तर के मामले में बहुत आगे हैं. 

इन सब में बाजरा हमे अधिक लाभ देता है. बाजरे में प्रोटीन और आयरन प्रचुर मात्रा में होता है. इसमे कैंसर कारक टाक्सिन नही बनते है और आप बीमारी से दूर रहते हैं. वहीं मक्का तथा ज्वार में बन जाते है जो आपके लिए ज्यादा फायदेमंद नहीं होते. बाजरा खाने वालों को अर्थ्राइटिस, गठिया,दमा आदि नहीं होता. आइए जानते है बाजरा खाने से और क्या क्या लाभ होते है.

बाजरा खाने के लाभ:

* कॉलेस्ट्रोल कम करता है.

* मोटापा कम करता है.

* शरीर व मस्तिष्क को स्वस्थ रखता है.

* मधुमेह (टाइप 2) के खतरे को कम करता है.

* छोटे बच्चों में होने वाले अस्थमा रोक की सम्भावना को कम करता है.

इसके सेवन से आप भी रख सकते है अपने लिवर को स्वस्थ

सेहत के लिए बेहद लाभकारी है कड़वा करेला

बड़े काम की है यह छोटी सी मूंगफली,जानिए फायदे