जन्म के 5 घंटे बाद बच्ची को दबा दिया राख में, सीने पर रख गए 10 किलो का पत्थर

मंदसौर: उसका जन्म महज 5 घंटे पहले ही हुआ था और उसे मरने के लिए मौत के दलदल में धकेल दिया। गांव के बाहर कचरे के ढेर पर राख में दबा गए। बच न जाए यह सोचकर जाते-जाते सीने पर 10 किलो का पत्थर भी रख गए। शुक्रवार को ऐसी ही हालत में एक नवजात बच्ची मिली। शुक्र है वहां से गुजरती महिला ने उसके रोने की आवाज सुन ली और गांव के लोगों की मदद से जिला अस्पताल पहुंचाया। फिलहाल बच्ची SNCU में भर्ती है। डॉक्टर के मुताबिक बच्ची के शरीर पर कुछ खरोंच के निशान हैं। उसकी हालत अब ठीक है।

ग्रामीणों के अनुसार दोपहर 2 बजे गांव की रेशमा पति गोविंद दोरवाड़ी मार्ग से जा रही थी तभी बच्चे के रोने की आवाज सुन वह घबरा गई। महिला ने गांव के लोगों को जानकारी दी। लोग मौके पर पहुंचे तो देखा पत्थरों के बीच राख के ढेर में दबी एक नवजात रो रही थी। उसके सीने पर पत्थर भी था। ग्रामीण बच्ची को लेकर गांव पहुंचे। इस बीच पुलिस व एम्बुलेंस 108 को सूचना दे दी। एंबुलेंस के गांव पहुंचने में देरी हुई तो ग्रामीण उसे जीप से नजदीकी गांव बूढ़ा के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले गए। यहां से जिला अस्पताल ले जा रहे थे तभी रास्ते में ढाबला के पास एंबुलेंस मिली। बच्ची को एंबुलेंस में शिफ्ट कर जिला अस्पताल ले गए। यहां डॉक्टरों की टीम ने तत्काल इलाज शुरू कर दिया।

घटना की सुचना लगते ही ASI विजय पुरोहित को मौके पर भेजा था। जांच रिपोर्ट आने के बाद अज्ञात महिला के खिलाफ धारा 317 के तहत मामला दर्ज किया जाएगा।

 

 

 

Most Popular

- Sponsored Advert -