इस मंदिर में दिन में 3 बार अपना रूप बदलते हैं भगवान शिव

हमारे देश में कई ऐसे मंदिर है जो अपने आप में काफी ज्यादा चमत्कारी माने जाते हैं. कुछ मंदिर में भगवान् चमत्कार दिखाते हैं तो कुछ में लोगो कि हर मनोकामना पूरी हो जाती है. वैसे भी भारत में धर्म को लेकर लोगों की काफी ज्यादा गहरी आस्था है. ऐसे में हम आपको आज एक ऐसे मंदिर के बारे में बता रहे हैं जहां पर भगवान दिनभर में तीन बार अपना रूप बदलते हैं. जी हां... भले ही आप सुनकर हैरान हो गए हो लेकिन ये मंदिर आस्था का प्रतिक माना जाता है और अब तो लोग भी इसे चमत्कार मानने लगे हैं.

हम बात कर रहे हैं प्राचीन तीर्थ स्थली नैमिषारण्य के कोतवाल बाबा भुतेश्वरनाथ के बारे में जिनके बारे में ऐसा कहा जाता है कि यहाँ मौजूद बाबा भोलेनाथ का शिवलिंग दिन में तीन बार अपना रूप बदलता हैं . चक्रतीर्थ के किनारे देवों के देव महादेव साकार बिग्रह के रूप में विद्यमान हैं . वैसे इस मंदिर का शिवलिंग कई मायनों में बहुत खास है. आपको बता दें भूतेश्वर नाथ मंदिर 88 हजार ऋषियों की तपोभूमि नैमिषारण्य में चक्रतीर्थ के किनारे स्थित है. ये बहुत ही प्राचीन मंदिर है और इसलिए इसका अलग ही महत्व भी है. इसके बारे में यह मान्यता है कि यहां स्थापित शिवलिंग दिन में तीन बार अपना रूप बदलता है.

शिवलिंग में परिवर्तन सबसे पहले प्रातः काल में बाल्यकाल रूप होता है इसके बाद दोपहर 12 बजे इस प्रतिमा का रूप रौद्ररूप का होता है और फिर सायंकाल 6 बजे यह रूप दयालु रूप में परिवर्तित हो जाता है. इस चमत्कार के बारे में मन्दिर के पुजारी सुनीत पांडेय का कहना है कि, 'जो मंदिर के श्रृंगार में शामिल होकर अपने जीवन को धन्य करते हैं. जो मनुष्य इन तीनो स्वरूपो का दर्शन कर लेता है उसे भगवान भोलेनाथ प्रत्यक्ष दर्शन देते है. ऐसी मान्यता पुराणों में कही गई है.' आपकी जानकारी के लिए बता दें नैमिषारण्य में भगवान शिव के जो भी प्रमुख मंदिर हैं उन सभी में भूतेश्वर नाथ का प्रमुख स्थान है.

इस आदमी ने दी अद्भुत श्रद्धांजलि, पीठ पर गुदवाए 71 शहीदों के नाम

सोशल मीडिया पर दिनभर बिताते हैं समय तो हो गए हैं आप बीमार

भारत की इस जगह पर महज 10रू किलो मिलता है काजू!

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -