पिता सुजाता...सुजाता बुलाते रहे, मां ने देखा तो....?

इलाहाबाद : उसके पिता सुजाता...सुजाता आवाज लगाते रहे और 21 वर्षीय बेटी ने पंखे से फांसी लगाकर अपनी जीवनलीला खत्म कर ली। यह ह्रदयविदारक घटना थाना धुमनगंज चौकी राजरूप इलाके में गुरुवार शाम 5 बजे की है। मृतका बीए की स्टूडेंट थी। अभी तक किसी को यह समझ में नहीं आ रहा है की उनकी बेटी ने ऐसा कदम क्यों उठाया। पुलिस भी अभी तक आत्महत्या की वजह पता नहीं लगा पाई है।

मृतिका स्टूडेंट के पिता मोहनलाल इन बताया कि वह उसकी मां के साथ दवा लेने अस्‍पताल गए थे। शाम 5 बजे लौटे तो सुजाता ने उनसे पूछा, पापा इतनी देरी क्‍यों हो गई? इतना कहकर सुजाता अपने ऊपर के कमरे में चली गई। थोड़ी देर बाद पिता मोहनलाल सुजाता...सुजाता कहकर आवाज लगाने लगे।

कई बार आवाज देने पर जब सुजाता ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी तो उसकी मां ने ऊपर जाकर देखा तो पता चला कि उनकी बेटी पंखे से लटकी हुई थी। जब तक दरवाजा खोलते बेटी कि मौत हो चुकी थी।

उसके बाद पुलिस को जानकारी दी। मौके पर पहुंचकर पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पुलिस मामले कि जांच कर रही है कि सुजाता ने ऐसा क्यों किया। वही इस मामले पर थाना धुमनगंज के प्रभारी ज्ञानेंद्र सि‍ंंह का कहना है कि‍ ऐसी कोई बात सामने नहीं आई है जि‍ससे कुछ शक होता हो।

Most Popular

- Sponsored Advert -