अज़हर की टीशर्ट की कॉलर क्यों रहती थी खड़ी


देश के सबसे सफलतम कप्तानों में नाम शुमार होने के बाद अब मुहम्मद.अजहरुद्दीन की बायोपिक भी लोगो के सामने आ गयी हैं. 53 साल के अजहर को कलाइयों के सहारे लगाए जाने वाले कलात्‍मक स्ट्रोक्स और मैदान पर अपने अलग स्टाइल के लिए पहचाना जाता था, उन्होंने शुरुआती तीन टेस्ट में ही तीन शतक लगाकर अपने इरादे और स्किल्स से सबको चौका दिया था|

टी-शर्ट के कॉलर खड़े रखकर मैदान में फील्डिंग करना यह अज़हर का स्टाइल बन चूका था. जिसे शुरू भी उन्होंने किया था जो बाद में बेहद लोकप्रिय हो गया था|

क्रिकेट फील्ड पर इन दिनों कई खिलाडि़यों को अजहर की ही तरह देखा जा सकता है. कॉलर खड़े रखने के राज के बारे में जब उनसे पूछा अजहर ने रेडियो चैनल 'फीवर 104 एफएम' को बताया, 'प्‍वाइंट पर फील्डिंग करते समय सूरज के संपर्क में आने के कारण मुझे गरदन की त्वचा में जलन और परेशानी महसूस होती थी. बस इसी से बचने के लिए मैंने कॉलर खड़े रखना शुरू कर दिया|

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -