लंग कैंसर के खतरे से बचाते हैं यह आयुर्वेदिक हर्ब्स

लंग कैंसर के खतरे से बचाते हैं यह आयुर्वेदिक हर्ब्स

लंग कैंसर जिसे फेफड़ों का कैंसर भी कहते हैं एक जानलेवा बीमारी होती है. कई लोगों को लगता है कि स्मोकिंग करने से लंग कैंसर की बीमारी होती है, पर हम आपको बता दें कि सिगरेट के धुए से भी लंग कैंसर हो सकता है. इसके अलावा लाइफ़स्टाइल के गलत होने के कारण भी कई लोग लंग कैंसर का शिकार हो सकते हैं. आज हम आपको कुछ ऐसे आयुर्वेदिक हर्ब्स के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके इस्तेमाल से आप लंग कैंसर की बीमारी से बच सकते हैं. 

1- आयुर्वेद में गिलोय को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है. गिलोय में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट और एंटीबायोटिक मौजूद होते हैं. जो कैंसर से बचाव करने में सहायक होते हैं. नियमित रूप से गिलोय का सेवन करने से इम्युनिटी पावर मजबूत हो जाती है जिससे आपको कैंसर से लड़ने की क्षमता मिलती है. 

2- मुलेठी का सेवन करने से गले की खराश खांसी के साथ साथ कैंसर का खतरा भी कम हो जाता है. मुलेठी का इस्तेमाल करने से गले पेट और कैंसर को बहुत सारे फायदे होते हैं. रोजाना थोड़ी सी मात्रा में मुलेठी का सेवन करने से कैंसर का खतरा कम हो जाता है. 

3- तुलसी में भरपूर मात्रा में औषधीय गुण मौजूद होते हैं. इसमें भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट के गुण मौजूद होते हैं जो हर तरह के खतरे को कैंसर को कम करने में मदद करते हैं. रोजाना तुलसी के पत्तों का सेवन करने से कैंसर होने का खतरा कम हो जाता है और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत हो जाती है. 

4- मुनक्का के ताज़ा  दानो को रात में सोने से पहले पानी में भिगो दें. सुबह से बीज निकालकर इसके गूदे को अच्छी तरह से चबा चबाकर खाएं. बाकी बचे हुए पानी को पी ले. रोजाना इसका सेवन करने से लंग कैंसर का खतरा कम हो जाता है.

 

किडनी स्टोन और अर्थराइटिस की समस्या से छुटकारा दिलाता है अनानास

कैल्शियम की कमी को पूरा करने के लिए करें इन आहारों का सेवन

लंबे समय तक स्वस्थ और जवान रहने के लिए दूध के साथ मिलाकर पिएं यह एक चीज