आगामी 5 वर्षों में पर्यटन के मुख्य केंद्र के रूप में उभरेगी अयोध्या, ये है योजना

Aug 06 2020 06:28 PM
आगामी 5 वर्षों में पर्यटन के मुख्य केंद्र के रूप में उभरेगी अयोध्या, ये है योजना

लखनऊ: रामनगरी अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम के चलते सीएम योगी आदित्यनाथ ने घोषणा की है, कि अवधपुरी को विश्व का सबसे वैभवशाली तथा समृद्धशाली नगरी के तौर पर स्थापित करेंगे. वैसे राज्य सरकार के सभी डिपार्टमेंट अयोध्या का कायाकल्प करने में जुट गए हैं. एक ओर पूर्वांचल एक्सप्रेस से अयोध्या को जोड़ा जा रहा है, वहीं वाराणसी से भी डायरेक्ट अयोध्या तक हाईवे बन रहा है. इसके अतिरिक्त अयोध्या तीर्थ विकास परिषद के गठन को भी बस मंत्रीमंडल की अनुमति की प्रतीक्षा है.

रामनगरी अयोध्या में प्रभु श्री राम की सबसे बड़ी मूर्ति, क्वीन हो मेमोरियल, आधुनिक म्यूजियम, इंटरप्रिटेशन केंद्र, रामलीला केंद्र, रामकथा गैलरी, ऑडिटोरियम सहित कई प्लानिंग हैं, जिन्हें संस्कृति व टूरिस्ट डिपार्टमेंट चला रहा है. माना जा रहा है कि इस इलाके में सरकार की टूरिस्ट प्लानिंग का 70 से 80 फीसदी बजट आगामी 5 वर्षो के लिए अयोध्या को बेहतर रूप से उभारने के लिए किया जा सकता है.

साथ ही विकास की चौतरफा प्लानिंग की बात करें, तो अयोध्या डेवलपमेंट अथॉरिटी की सीमाओं का विस्तार किया जा रहा है. सरकार का प्रयास है कि अयोध्या भारत का एक प्रमुख धार्मिक पर्यटन का सेंटर बनकर उभरे. अयोध्या में हवाई अड्डे का निर्माण हो रहा है. यही नहीं लखनऊ तथा वाराणसी के इंटरनेशनल एयरपोर्ट से अयोध्या की डायरेक्ट कनेक्टिविटी के लिए पूर्वांचल एक्सप्रेस का निर्माण भी हो रहा है. वही वाराणसी से अयोध्या तक 192 किमी लंबे काशी-अयोध्या राजमार्ग भी दो वर्ष के भीतर पूरा हो जाने की उम्मीद व्यक्त की जा रही है. वही अब अयोध्या को उभारने का कार्य जल्द ही शुरू किया जाएगा.

कोरोना काल में किस तरह मनाए जन्माष्टमी ?

गोवा का लेना है मजा, तो 14 दिन अपने खर्च पर रहना पड़ेगा क्वारंटाइन

जम्मू कश्मीर में भाजपा सरपंच की हत्या, 1 माह में पार्टी के दूसरे नेता का क़त्ल