21 किलो के चांदी के पालने पर झूला झूलेंगे रामलला, कल होंगे झूले पर विराजमान

अयोध्या: 11 अगस्त से रामनगरी अयोध्या में झूला मेला आरम्भ हो गया है। कोरोना के चलते इस वर्ष ये झूला महोत्सव धूमधाम से नहीं मनाया जा रहा है। किन्तु मंदिरों में ईश्वर को रक्षाबंधत तक झूला झूलाया जाएगा तथा गीत सुनाए जाएंगे। राम जन्मभूमि परिसर में भी रामलाल चांदी के झूले में झूलेंगे। रामलला श्रावण मास में आरम्भ होने वाले झूलन महोत्सव का आनंद लेंगे।

वही ऐसा पहली बार हो रहा है कि रामलला के लिए चांदी का विशेष झूला तैयार करवाया गया है। यह विशेष झूला बुधवार को रामलला को सौंप दिया गया है तथा नागपंचमी वाले दिन रामलला झूला झूलेंगे। अयोध्या में राम जन्मभूमि परिषर के भीतर रामलला के अस्थाई मंदिर में 498 सालों के पश्चात् प्रभु श्री राम चांदी के झूले में झूला झूलने जा रहे हैं। राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने 21 किलो चांदी से प्रभु श्री श्रीराम का झूला बनवाया है। 

वही प्रभु श्री राम नाग पंचमी (13 अगस्त) को चांदी के झूले में झूलेंगे तथा सावन पूर्णिमा तक रामलला चांदी के झूले में राम भक्तों को दर्शन देंगे। रामलला की मुख्य पंडित आचार्य सत्येंद्र दास का कहना है कि रामलला 13 अगस्त को नाग पंचमी के दिन झूले पर विराजेंगे। आज यह झूला रामलला मंदिर में पहुंच गया है। कल प्रातः रामलला झूलें में विराजेगें। इसके साथ ही रामलला को कजरी गीत भी सुनाई जाएगी।

गुजरात के 108 मंदिरों में रोज़ लाउडस्पीकर पर होगा 'हनुमान चालीसा' का पाठ

राज्यसभा में हंगामे पर 8 केंद्रीय मंत्रियों की प्रेस वार्ता, खोली कांग्रेस सहित पूरे विपक्ष की पोल

शोएब अख्तर का बड़ा खुलासा, बोले- उस दिन सचिन तेंदुलकर को कुछ हो जाता तो भारत के लोग मुझे ज़िंदा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -