सूर्य की किरणों से होगा रामलला का अभिषेक, अयोध्या राम मंदिर में की जा रही ये व्यवस्था

अयोध्या: अयोध्या में बन रहे भव्य राम मंदिर में रामलला को भगवान सूर्य प्रत्येक रामनवमी पर अपनी किरणों से अभिषिक्त करेंगे. दरअसल, अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण इसी योजना के साथ किया जा रहा है. इसके साथ ही ऐसी कल्पना को साकार किया जाएगा कि रोज़ाना मंदिर का गर्भगृह सूर्य की रोशनी से ही प्रकाशित होता रहे. 

श्री राम जन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य कामेश्वर चौपाल ने जानकारी देते हुए बताया है कि अयोध्या में राम का मंदिर कई खूबियों से युक्त होगा. ऐसी भी योजना है कि प्रति वर्ष रामनवमी पर सूर्य की सुनहरी किरणें रामलला पर पड़ें. इन किरणों के लिए मंदिर में कोणार्क के सूर्य मंदिर की तर्ज पर ही सही कोण पर झरोखे तैयार किए जाएंगे, ताकि चैत्र माह में शुक्ल पक्ष की नवमी पर सीधे रामलला पर सूर्य की किरणें पड़ें. 

न्यास को उम्मीद है कि 2023 के आखिर तक रामलला के मंदिर का गर्भगृह पूरी तरह से तैयार हो जाएगा. 2024 की शुरुआत से आम जनता वहां रामलला के दर्शन कर सकेगी. इसके साथ ही यह भी उम्मीद जताई है कि रामलला के गर्भ गृह में विराजित होने के बाद भी यहां के बाहरी और भीतर की सजावट का काम जारी रहेगा. वैसे तो प्रयास किया जा रहा है कि गर्भगृह को भव्यता देने के कार्य का दूसरा चरण 2023 में नवंबर के मध्य तक संपन्न कर लिया जाए. 

स्पाइसजेट ने रविवार से तिरुपति और दिल्ली के बीच एक नई सेवा की शुरू

राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) ने जारी किए नए दिशानिर्देश

दिल्ली में चल रही बीजेपी के राष्ट्रीय पदाधिकारियों की बैठक

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -