स्वप्न में आई देवी के प्रति जागा विश्वास, बनवाया माँ का भव्य मंदिर

जबलपुर/ब्यूरो। जबलपुर से 15 किलोमीटर दूर ये है माँ शारदा का मंदिर इस मंदिर का इतिहास बहुत पुराना तो नहीं है, लेकिन एक भक्त की भक्ति का जीवंत प्रमाण है जिसने स्वप्न में आई देवी के प्रति विश्वास जगाया और उनका भव्य मंदिर बनवा दिया शारदा देवी मंदिर, बरेला के पुजारी आशीष शुक्ला ने बताया कि 

पहले इस पहाड़ी पर एक मढिय़ा थी, जिसमें माता की प्रतिमा स्थापित थी मेरे पिता स्व. श्रवण कुमार शुक्ला राज्य परिवहन में ड्राइवर थे, जो कि जबलपुर से मंडला रोड पर बस चलाते थे उनका रोज यहां से गुजरना होता था, माता को प्रणाम करके ही आगे बस जाती थी एक बार माता उनके स्वप्न में आईं तो वे पहली बार पहाड़ी पर उनके दर्शन को आए। जहां माता मढिय़ा के अंदर लेटी हुई मुद्रा में थीं।

 दोबारा जब स्वप्न आया तो उन्होंने मंदिर बनाने का प्रण किया, लेकिन पैसे नहीं थे। ऐसे में उन्होंने राज्य परिवहन की नौकरी छोड़ दी और जो 70 हजार रुपए मिले उससे ये भव्य मंदिर बनवाया। मंदिर का निर्माण 15 जून 1975 को हुआ था।स्थानीय लोगों व राहगीरों ने बताया चूंकि मंडला की ओर जाने वाला मार्ग दोनों तरफ गहरी घाटियों से घिरी हैं, आए दिन वाहन दुर्घटना का शिकार होते थे। फिर माता से लोगों ने प्रार्थना की तो दुर्घटनाएं कम हो गईं। तबसे यहां से गुजरने वाला हर वाहन नीचे एक मिनट के लिए रुकता जरूर है

चलती-फिरती हॉटनेस की दूकान है ये सिंगर

सम्राट अशोक के शिलालेख पर लोगों ने बना डाली मजार

2 रुपए में मिल रही 300KG प्याज

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -