सदन में उछला डॉक्टरों पर हमले का मुद्दा, उठी फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई की मांग

सदन में उछला डॉक्टरों पर हमले का मुद्दा, उठी फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई की मांग

नई दिल्ली: राज्यसभा में शुक्रवार को भाजपा के एक सदस्य ने पश्चिम बंगाल के एक अस्पताल में चिकित्सकों पर हुए हमले का मसला उठाया और मांग की कि ऐसे मामलों की सुनवाई फ़ास्ट ट्रैक अदालतों में होनी चाहिए. भाजपा के विकास महात्मे ने शून्यकाल में यह मसला उठाया और आरोप लगाया कि पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार इस मुद्दे से सही से नहीं निपट सकी.

तृणमूल कांग्रेस के सदस्य सुखेंदु शेखर राय ने महात्मे की बात पर आपत्ति जताने की कोशिश की, किन्तु सभापति एम वेंकैया नायडू ने उन्हें इसकी इजाजत नहीं दी. महात्मे ने मांग की कि अस्पतालों में ‘‘पैनिक बटन’’ का इंतज़ाम किया जाना चाहिए ताकि आवश्यकता पड़ने पर अधिकारियों को तत्काल अवगत कराया जा सके. वहीं अन्नाद्रमुक की सदस्य विजिला सत्यनाथन ने कावेरी नदी के पानी का मुद्दा उठाया.

उन्होंने केंद्र सरकार से कावेरी जल प्रबंधन प्राधिकरण का नियंत्रण अपने हाथों में लेने की अपील की. उन्होंने तमिलनाडु में पानी की समस्या का उल्लेख करते हुए नदी के पानी वितरित करने की मांग की. शून्यकाल में ही सीपीआई के डी राजा ने आरोप लगते हुए कहा कि केंद्र सरकार तमिल भाषा को तवज्जो नहीं दे रही है और आकाशवाणी में भारतीय भाषा इकाइयों को बंद किया जा रहा है.

योग कार्यक्रम में शामिल नहीं हुए कमलनाथ, शिवराज सिंह बोले- ये संकीर्ण मानसिकता

राज्यसभा उपचुनाव के लिए नामांकन भरेंगे रामविलास पासवान, सीएम नितीश भी रहेंगे मौजूद

ट्रिपल तलाक़ बिल को लेकर संसद में हुई वोटिंग, जानिए पक्ष-विपक्ष में कितने वोट पड़े