एकदम चकाचक है फिल्म अतरंगी रे, देखकर डूब ही जाएंगे आप

फिल्म- अतरंगी रे
कलाकार- अक्षय कुमार , धनुष , सारा अली खान , सीमा बिस्वास और आशीष वर्मा
लेखक- हिमांशु शर्मा
निर्देशक- आनंद एल राय
निर्माता- भूषण कुमार , आनंद एल राय , हिमांशु शर्मा और अक्षय कुमार
ओटीटी- डिज्नी प्लस हॉटस्टार
रेटिंग- 3/5

कहानी- अगर हम फिल्म की कहानी के बारे में बात करें तो इसमें रोमांस है, इमोशन है और ड्रामा भी। फिल्म बिहार से शुरू होती है, जहां रिंकू सूर्यवंशी (सारा अली खान) की शादी उसकी नानी (सीमा बिस्वास) और बाकी रिश्तेदार दिल्ली से आए तमिल भाषी विष्णु (धनुष) से जबरदस्ती करा देते हैं। यह पकड़ौवा ब्याह होता है, जिसमें शादी के लिए लड़के को उठा लिया जाता है। यहां रिंकू को साथ लेकर दिल्ली लौटते हुए विष्णु बताता है कि दो दिन बाद उसकी सगाई होने वाली है और यह लव मैरिज होगी। ऐसे में रिंकू कहती है कि यह तो अच्छा है क्योंकि वह किसी और से प्यार करती है। नाम है सज्जाद अली (अक्षय कुमार)।

सज्जाद के लिए वह पिछले चौदह साल में 21 बार घर से भागी है और हर बार पकड़ी गई। इसके बाद तय होता है कि विष्णु शादी कर ले तो दोनों अपने-अपने रास्तों पर निकल जाएंगे। अपने पसंदीदा साथियों के साथ। फिल्म में सारा अली खान ठेठ देसी गर्ल हैं। यह फिल्म की पूरी कहानी के केंद्र में हैं। जी हाँ और सारी बातें उनके इर्द-गिर्द हैं। सारा ने अपने रोल से पूरा न्याय किया है। चकाचक गाने पर उनका डांस एक अलग असर पैदा करता है। वहीं धनुष के बारे में बात करें तो वह शानदार अभिनेता हैं और यहां वह अपनी पहचान के अनुरूप हैं। चाहे प्यार का मामला हो या कॉमिक टाइमिंग का, वह नहीं चूकते। अब बात करें अक्षय कुमार की तो वह तो है ही गजब। धनुष के दोस्त के रूप में आशीष वर्मा ने अपनी भूमिका मजबूती से निभाई है। इस फिल्म में एआर रहमान का संगीत और इरशाद कामिल के गीत कहानी को मधुर बनाते हैं।

अतरंगी रे में रोमांस, इमोशन और ड्रामा भरपूर है। कैमरा वर्क और एडिटिंग अच्छे हैं। कहानी में दिलचस्प ट्विस्ट है, जो फिल्म को रोमांस और ड्रामे से ऊपर उठा कर मानवीय बनाता है। अतरंगी रे के मध्य भाग को देखते हुए आपको देर तक कमल हासन-श्रीदेवी की क्लासिक फिल्म सदमा याद आ सकती है हालाँकि उस फिल्म जैसी करुणा यहां गायब है। आपको बता दें कि करुणा सबसे श्रेष्ठ मानवीय-मूल्य है। इसी बिंदु पर अतरंगी रे 1983 में आई निर्देशक बालू महेंद्र की सदमा से पीछे रह जाती है। फिल्म में सज्जाद के रूप में अक्षय का किरदार और उससे रिंकू का प्यार वह धागा है, जिसमें सब कुछ नजर आता है। वहीं विष्णु और रिंकू की कहानी के बीच सज्जाद और रिंकू दर्शकों को याद रह जाते हैं। यह वाकई में दमदार फिल्म में।

Omicron: यूपी में लौटा पाबंदियों का दौर, नाईट कर्फ्यू के साथ ही लगी ये बंदिशें

शख्स ने साली से रचाई शादी, अचानक हुआ कुछ ऐसा की लगा लिया फंदा

पूरे शरीर पर तलवार के 30 घाव।।, कपूरथला गुरुद्वारे में मार डाले गए विक्षिप्त युवक की पोस्टमार्टम रिपोर्ट

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -