घबराने की जरुरत नहीं कुछ दिन परेशानी होगी, पैसा सबका सुरक्षित है

नई दिल्ली : 500 रूपए 1000 रूपए के नोट बैंकों में जमा और रिप्लेस करने के लिए लोगों की भीड़ जुटने के मामले में केंद्रीय वित्तमंत्री अरूण जेटली ने आज पत्रकारों से चर्चा की इस दौरान उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि बैंककर्मचारी लगातार कार्य कर रहे हैं और बैंकों में लोग लेनदेन करने पहुंच रहे हैं। 

केंद्रीय वित्तमंत्री अरूण जेटली ने कहा कि जब भी इस तरह की व्यवस्था सामने आती है तो बैंक में लोगों की तादाद अधिक हो जाती है और करेंसी रिप्लेसमेंट इसकी तुलना में कम हो जाता है लेकिन फिर भी इस मामले में व्यवस्था बनाए रखी जाती है। सरकार द्वारा इस मामले में नाट की कमी की लगातार निगरानी की जा रही है। लोगों का नोट बदलने में सहायोग मिल रहा है। लोगों में संयम है और वे सहयोग कर रहे हैं।

हालांकि बैंकों में कई गुना अधिक भीड़ है। उन्होंने कहा कि बैंककर्मी लगातार कार्य कर रहे हैं और बेहतर कार्य कर रहे हैं। केंद्रीय मंत्री अरूण जेटली ने कहा कि लोग बड़े पैमाने पर नोट बदलवाने जाऐंगे। इसे मैसिव आॅपरेशन कहा जाता है। यह अभी प्रारंभ हुआ है और आगे कितना बड़ा होगा इसकी तुलना कुछ उदाहरण के आधार पर मैं सभी के सामने रखना चाहूंगा। उन्होंने कहा कि बैंक के अधिकारी बैंककर्मचारी अपने कार्य में काॅन्सन्ट्रेट कर पाऐं इसका प्रयास करें। केंद्रीय मंत्री अरूण जेटली ने कहा कि बैंक में 5 तरह का लेनदेन कर लोगों को सुविधा दी जा रही है।

जिसमें कैश जमा करते हैं, कैश विड्रा करते हैं, लोग करेंसी परिवर्तित करते हैं, लोग एटीएम से ट्रांजिक्शन करते हैं या फिर कैश डिपाॅजिट मशीन में कैश जमा करते हैं। 5 ट्रांजिक्शन में पांच दिन में स्टेट बैंक ने 2 करोड़ 28 लाख रूपए का ट्रांजिक्शन किया है। यदि हम इसकी तुलना करें तो यह ज्ञात कर सकते हैं कि बैंक कितनी बड़ी मात्रा में लोगों की सेवा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बैंक कर्मचारी बिना छुट्टी के लगातार कार्य कर रहे हैं।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इस योजना का उद्देश्य था कि कैश ट्रांजिक्शन बैंक में आऐं वह हुआ है। उन्होंने कहा कि बैंक ने 22 लाख लोगों से एटीएम का व्यवहार किया है। बैंक में जमा करने वालों की संख्या अधिक है। लोगों द्वारा कहा गया है कि लोग पैसा जमा कर रहे हैं, एक्सचेंज कर रहे हैं। बड़े पैमाने पर यह चल रहा है। लोगों ने 47 हजार 868 करोड़ रूपए का कैश जमा किया है। लोगों की सुविधा के लिए पैसे की कमी नहीं आने दी जा रही है।

प्रारंभिक दिनों में स्वाभाविक तौर पर भीड़ है लेकिन बाद में भीड़ कुछ कम जरूर होगी और लोगों को और सुविधा मिलेगी। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि नए नोट का साईज़ अलग है। ऐसे में एटीएम मशीन रिकैलिब्रेट की जा रही है ऐसे में अधिकांशतः 100 रूपए की करेंसी ही इसमें डाली जा रही है। आगे आने वाले कुछ दिनों में मशीनें रिकैलिब्रेट हो जाऐंगी। यह प्रक्रिया एडवांस में नहीं की जा सकती है क्योंकि मशीनों की सुरक्षा का ध्यान रखना होता है।

केंद्रीय मंत्री ने सरकार पर राजनीतिक बयानबाजी से हमला करने के मामले में कहा है कि देश की राजनीति को स्वच्छ करने का जो प्रयास किया जा रहा है उसमें कुछ बयान आना स्वाभाविक है। कुछ लोग कह रहे हैं कि कुछ सप्ताह की छूट दे दो। केंद्रीय मंत्री ने अप्रत्यक्षतौर पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आरोपों का खंडन करते हुए कहा कि कुछ का कहना है कि जुलाई से सितंबर तक बैंक में जमा करने की प्रक्रिया बढ़ी है ऐसे में नोट बंद करने के निर्णय की जानकारी कुछ लोगों को होने की संभावना है। मगर मैंने स्वयं बैंक के स्टेटमेंट देखे हैं। कुछ आधार पर मनगढ़ंत बात करना गलत है।

इस अवधि में अधिक जमा नहीं हुआ है बस कुछ दिन में ही पैसा जमा हुआ है। ऐसे में बेबुनियाद आरोप लगाना गलत है। उन्होंने अपनी बात कहते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का नाम नहीं लिया लेकिन उन्होंने इस तरह के आरोपों को गलत बताया। गौरतलब है कि सीएम केजरीवाल ने आरोप लगाए थे कि 500 रूपए और 1000 रूपए के नोट बंद करने का नियम जारी करने से पहले भाजपा नेतृत्व वाली सरकार ने अपना फायदा कर लिया और इस तरह से इसमें बड़ी घोटालेबाजी की गई है लेकिन इस तरह के आरोपों को किसी का नाम लिए बिना केंद्रीय मंत्री जेटली ने नकार दिया है।

केंद्रीय मंत्री ने कहा है कि करोड़ों की संख्या में बैंकिंग सिस्टम, पोस्ट आॅफिस सिस्टम कार्य कर रहा है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि आम लोग और अन्य लोग अपना मन बनाऐं कि इलेक्ट्राॅनिक मोड, कार्ड व्यवस्था आदि से ट्रांजिक्शन करें और नई अर्थव्यवस्था में इसकी गुजाईश भी ज़्यादा है। उन्होंने कहा कि नकली नोट और जो मुद्रा अपराध में लगी है उसे समाप्त किया जा सके सरकार ने इसका प्रयास किया था।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -