ज्योतिषशास्त्र क्या कहता है अप्रैल माह में आपके भविष्य के बारे में

tyle="text-align:justify">ज्योतिषी का सहारा आपके जीवन में हर बार एक नयापन लाता है इसी तर्ज पर क्या आप जानते है की ज्योतिष शास्त्र आपकी राशी अनुसार इस अप्रैल के महीने में कैसे सफलता हासिल करने में आपकी मदद कर सकता है जानने के लिए पढ़े ज्योतिषी अनुसार अप्रैल के महीने में आपके राशिफल सफलता के लिए क्या बोलते है 
मेष
(1) पीपल के वृक्ष का नित्य जल से सिंचन करते रहें।
(2) मस्तक पर नित्य प्रात: पीले चंदन का तिलक लगायें।
वृष
(1) चींटियों को चावल, शक्कर मिश्रित कर डालते रहें। 
(2) प्रत्येक सोमवार शिवलिंग पर अंजुल भर सफेद पुष्प चढ़ाया करें।
मिथुन
(1) रूद्राभिषेक करें और शिव चालीसा का पाठ करते रहें।
(2) जलपूरित घट का दान करें।
कर्क 
(1) गाय को हरा चारा खिलाएं।
(2) श्री गणपति स्तोत्र का नित्य पाठ करें।
सिंह
(1) शाम के समय पीपल के वृक्ष के नीचे धूपबत्ती लगायें।
(2) "ॐ नारायणाय सुरसिंहासनाय नम:" मंत्र का नित्य जाप करें।
कन्या
(1) कीड़े-मकौड़ों को तिल चावल मिश्रित कर डालते रहें।
(2) जल सेवा करें।
तुला
(1) नित्यप्रति रूद्राभिषेक करें।
(2) त्रिमुखी रूद्राक्ष धारण करें।
वृश्चिक
(1) गौ सेवा करें।
(2) गले में चांदी धारण करें।
धनु
(1) मस्तक पर नित्य सफ़ेद चंदन का तिलक लगायें।
(2) “ॐ ह्रां ह्रीं ह्रौं स: सूर्याय नम:” मन्त्र का जाप करें।
मकर
(1) दुग्ध, शरबत इत्यादि किसी पेय पदार्थ का दान करते रहे। 
(2) पक्षियों को सफ़ेद ज्वार डालें।
कुंभ
(1) सुस्वादु एवं स्वास्थ्यवर्धक खान पान रखें।
(2) एकादश मुखी रूद्राक्ष धारण करें।
मीन
(1) श्री भैरव चालीसा का नित्य पाठ करें।
(2) शनिवार का उपवास रखें।
इस प्रकार आप इस महीने इन नियमो का पालन कर सफलता की ओर अग्रसर हो सकते है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -