मांझी ने दाखिल किया नामांकन, संपत्ति में हुआ भारी इजाफा

मांझी ने दाखिल किया नामांकन, संपत्ति में हुआ भारी इजाफा

जेहानाबाद​ : हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) के प्रत्याशी व पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की संपत्ति पिछले 5 साल में 1800 प्रतिशत बढ़ी है. सोमवार को उन्होंने मखदुमपुर विधानसभा सीट से नामांकन दाखिल किया. इसमें उन्होने अपनी संपत्ति की जानकारी दी. उनके अलावा प्रदेशभर में 84 अन्य उम्मीदवारों ने कल नामांकन प्रस्तुत किए. मांझी के खिलाफ थाने या न्यायालय में किसी प्रकार का कोई मुकदमा नहीं हैं. मांझी के बैंक खातों में 32 लाख 46 हजार 876 रुपये जमा हैं. जबकि वर्ष 2010 के विधानसभा चुनाव के दौरान दाखिल शपथ पत्र के अनुसार उनके बैंक खातों में मात्र 1 लाख 64 हजार रुपये थे.

इसके अलावा गया के खिजरसराय थाना क्षेत्र के महकार निवासी मांझी का अपने पैतृक गांव में 13 लाख रुपये का एक मकान भी है. 2010 में मांझी की पत्नी शांति देवी के पास 50 ग्राम सोना था जो अब बढ़कर 80 ग्राम हो गया है. वहीं चांदी के आभूषण 100 ग्राम से बढ़कर एक किलो हो गए हैं. मांझी की पत्नी के बैंक खाते में 8 लाख 87 हजार 554 रुपये जमा हैं. मांझी के पास 2005 मॉडल की एक एंबेसडर कार और 2011 मॉडल की एक स्कॉर्पियो गाड़ी है. इसके अलावा उनके पास एक बंदूक भी है.

रो पड़े मांझी

नामांकन पत्र दाखिल करने के बाद मखदुमपुर के गांधी मैदान में आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए मांझी इतने भावुक हो गए कि वे फफक कर रो पड़े. उन्होंने कहा कि भाजपा के शीर्ष नेतृत्व ने उन्हें चुनाव नहीं लड़ने की सलाह दी थी. भाजपा चाहती थी कि वह प्रदेश के सभी 243 निर्वाचन क्षेत्रों में घूम-घूम कर प्रचार करें. उस समय मेरी स्थिति ऐसी हो गई थी मानो किसी के घर से कोई बेटी विदा हो रही हो. मुझे लगा चुनाव नहीं लड़ूंगा तो मखदुमपुर के लोगों को क्या जवाब दूंगा जिनके स्नेह और आशीर्वाद के कारण मेरे जैसा आम आदमी मुख्यमंत्री बना.