पंजाब के बाद इस राज्य में उठी मतदान की तारीख बदलने की मांग

देहरादून: पंजाब में चुनाव आयोग की तरफ से मतदान की दिनांक बढ़ाने के साथ ही उत्तराखंड में चुनाव दिनांक में परिवर्तन की मांग उठ रही है। तमाम संगठनों की तरफ से आयोग से उत्तराखंड की भौगोलिक परिस्थिति तथा पलायन को देखते हुए वोटिंग के लिए रविवार का दिन और मार्च के प्रथम हफ्ते में दिनांक निर्धारित करने की अपील की गई है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि उत्तराखंड में वोटिंग के लिए 6 मार्च का दिन उपयुक्त हो सकता है।

वही उत्तराखंड में चुनाव आयोग ने वोटिंग के लिए 14 फरवरी का दिन तय किया है। इस दिन सोमवार है। एक्सपर्ट्स के अनुसार, फरवरी महीने में राज्य के चमोली, पिथौरागढ़, उत्तरकाशी सहित कई जिलों के ऊंचाई इलाकों में मौसम खराब होने से बर्फबारी की संभावना रहती है। जिससे पोलिंग पार्टियों को बूथ तक पहुंचने के साथ जनता को वोट डालने के लिए बूथ पहुंचने में समस्या रही है। 

वहीं 14 फरवरी को सोमवार है। जिससे दिल्ली सहित अन्य प्रदेशों में नौकरी पेशा वाले उत्तराखंड प्रवासियों को मत डालने के लिए आना संभव नहीं होगा। अगर वोटिंग के लिए रविवार का दिन तथा मार्च के प्रथम हफ्ते में मतदान की दिनांक तय होती है तो इससे मत प्रतिशत बढ़ सकता है। साथ ही जनता को वोट देने के लिए मौसम तथा कोरोना वायरस जैसे समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ेगा।

विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, BJP में शामिल हुई सरिता आर्या

उत्तराखंड में बढ़ा कोरोना का कहर, लगातार सामने आ रहे है संक्रमण के केस

सियासी गलियारों में मची हलचल, दिल्ली पहुंचे हरक, BJP का एक और विधायक दे सकता है इस्तीफा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -