असम-मेघालय भूमि विवाद: मेघालय के राज्यपाल ने तीन क्षेत्रीय समितियों का किया गठन

शिलांग: मेघालय के राज्यपाल सत्य पाल मलिक ने असम-मेघालय सीमा विवाद की जांच के लिए तीन क्षेत्रीय समितियों का गठन किया है. जिसका मकसद असम-मेघालय सीमा पर स्थित छह विवादित इलाकों की स्थिति की जांच करना है. समितियों के सदस्यों को मेघालय के राज्यपाल द्वारा असम में स्थापित भूमि विवाद समितियों के साथ चर्चा में शामिल होने का भी निर्देश दिया गया है। अंतर्राज्यीय सीमा पर विवादित भूमि में पश्चिम खासी हिल्स जिले में ताराबारी, गिजांग और हाहिम, पूर्वी जयंतिया हिल्स में रतचेरा और री-रोई जिले में बोकलापारा और खानापारा-पिलंगकाटा शामिल हैं।

इन समितियों की अध्यक्षता मेघालय के कैबिनेट मंत्री करेंगे। एक अधिसूचना में कहा गया है कि री-भोई जिले की समन्वय समिति की अध्यक्षता उपमुख्यमंत्री प्रेस्टन तिनसोंग करेंगे। साथ ही पश्चिम खासी हिल्स जिले के लिए कमेटी की अध्यक्षता जन स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री आर तोंगखर करेंगे और राज्य के परिवहन मंत्री स्नियाभालंग धर पूर्वी जयंतिया हिल्स के लिए कमेटी की अध्यक्षता करेंगे।

मेघालय के राज्यपाल के निर्देशों के अनुसार, दोनों राज्यों के दावों और प्रति दावों को समितियों द्वारा चर्चा के दौरान सत्यापित किया जा सकता है। आदेश ने पश्चिमी खासी हिल्स, पूर्वी जयंतिया हिल्स और री-भोई जिलों के उपायुक्तों को समितियों को सचिवीय और रसद सहायता प्रदान करने का भी निर्देश दिया। इसके अलावा, समितियां स्थानीय लोगों, स्वायत्त जिला परिषद के निर्वाचित सदस्यों के साथ चर्चा में संलग्न होंगी और गांवों की भौगोलिक स्थिति को स्थापित करने के लिए उनकी मान्यताओं के बारे में जानेंगे।

महिलाओं की खेलकूद 'इस्लाम' में हराम, उनके पेशे में पर्दा होना जरुरी - मौलाना अरशद मदनी

खरीदने जा रहे हैं अनमोल इंडिया लिमिटेड के शेयर, इन बातों का रखें ध्यान

PM मोदी के दौरे से पहले अलीगढ़ भाजपा कार्यालय में तोड़फोड़ करने वाला बाबू सिद्दीकी गिरफ्तार

- Sponsored Advert -

Most Popular

मुख्य समाचार

- Sponsored Advert -