असम: ट्रेन की चपेट में आने से हाथी की मौत

 


गुरुवार की रात पलासबारी जिले के कामाख्या-जोगीघोपा रेल लाइन पर  एक मालगाड़ी की चपेट में आने से एक जंगली हाथी की मौत हो गयी।
जब हाथियों का एक झुंड भोजन की तलाश में मलियाटा हाइलैंड्स से नीचे आया, तो वे कथित तौर पर एक तेज रफ्तार मालगाड़ी की चपेट में आ गए। एक हाथी की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि घायल हाथी को वापस जंगल में छोड़ दिया गया।

घटना कल रात कामाख्या-जोगीघोपा रेल मार्ग पर हुई, जब झुंड ट्रैक पार कर रहा था कि गुवाहाटी से दिल्ली आ रही तेज रफ्तार ट्रेन ने दो हाथियों को टक्कर मार दी, जिसमें एक की मौत हो गई और दूसरा घायल हो गया। बीती रात वन विभाग और रेलवे के अधिकारी मृतक हाथी के शव को ट्रैक से हटाने के लिए घटना स्थल पर पहुंचे ताकि ट्रेन यातायात फिर से शुरू हो सके।

कुछ स्थानीय लोगों ने सुझाव दिया कि एक सक्रिय हाथी गलियारे के रूप में क्षेत्र का सीमांकन करने वाला एक साइनबोर्ड रखा जाना चाहिए, क्योंकि यह क्षेत्र एक सक्रिय हाथी गलियारा था जिसमें नियमित रूप से हाथी जंगली से बाहर आते थे। उन्होंने यह भी सिफारिश की कि इस क्षेत्र से गुजरने वाली ट्रेनों की गति धीमी हो ताकि पुनरावृत्ति की घटनाओं से बचा जा सके।

भारत में कोविड-19 टीकाकरण का कवरेज 164.44 मिलियन के पार

पिछले साल दुनियाभर में हुआ 11 अरब कोरोना वैक्सीन का उत्पादन, सीरम इंस्टिट्यूट ने भी जमकर किया प्रोडक्शन

भारत के बढ़ते कदम.. फिलीपींस को देगा ब्रह्मोस..37.49 करोड़ डॉलर की डील पर आज होंगे दस्तखत

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -