असम के सीएम सोनोवाल का दावा, यहाँ के मूल निवासी ही करेंगे सूबे पर शासन

गुवाहाटी: असम के सीएम सर्बानंद सोनोवाल ने कहा है कि असम यहां के मूल निवासियों का है और असम में पैदा हुए लोग ही भविष्य में भी प्रदेश पर शासन करते रहेंगे। सोनोवाल बुधवार को धेमाजी जिले में मिशिंग जनजाति के एक समारोह में सभा को सम्बोधन दे रहे थे। उन्होंने कहा है कि, "कोई बाहरी व्यक्ति यहां के स्थानीय लोगों को कमजोर करके यहां अपना ध्वज नहीं गाड़ सकता। इस मिट्टी से पैदा हुए लोग ही भविष्य में भी यहां की सत्ता पर बैठते रहेंगे।" 

गठबंधन को लेकर छलका केजरीवाल का दर्द, कहा - हम थक गए कांग्रेस नहीं मान रही

सीएम सोनोवाल ने कहा है कि मिशिंग समुदाय के युवाओं को प्रदेश को विश्व मंच पर मजबूती से स्थापित करने की जिम्मेदारी उठानी चाहिए। उल्लेखनीय है कि इन दिनों नागरिकता (संशोधन) विधेयक के विरुद्ध असम में विरोध प्रदर्शन लगातार जारी है। अभी तक सैकड़ों प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया गया है। कृषक मुक्ति संग्राम समिति (केएमएसएस) और जातियताबंदी युवा छात्र परिषद (एजेवाईसीपी) के प्रदर्शनकारी खुलकर सड़कों पर उतर कर अपना विरोध दर्ज करा रहे हैं।

क्या आप जानते हैं जिहादी दुल्हन के बारे में, कोई भी देश नहीं दे रहा प्रवेश
 
आपको बता दें कि यह विधेयक हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी व ईसाइय समुदाय के लोगों को, जो पाकिस्तान, अफगानिस्तान, बांग्लादेश से बिना वैध यात्रा कागजातों के साथ भारत आए हैं, या जिनके वैध दस्तावेजों की समय सीमा हाल के वर्षों में समाप्त हो गई है, उन्हें भारतीय नागरिकता प्रदान करने से संबंधित है। यह विधेयक बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान के छह गैर मुस्लिम अल्पसंख्यक समुदायों के लोगों को भारतीय नागरिकता प्रदान करने में आ रही मुश्किलों का समाधान करता है।

खबरें और भी:-

 

लोकसभा चुनाव के लिए बसपा की तैयारी, गौतमबुद्ध नगर से सतवीर गुर्जर को बनाया प्रभारी

चारा घोटाला: लोकसभा चुनाव के लिए लालू की शरारत, बीमारी के बहाने SC से मांगी जमानत

यु टर्न मारते हुए शत्रुघ्न ने की पीएम मोदी की तारीफ, भाजपा बोली- नहीं है लोकसभा टिकट की गारंटी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -