हार के बाद फिर एक बार आमने-सामने होंगी भारत-चीन महिला हॉकी टीम

यहां चल रही चौथी एशियन महिला चैंपियंस ट्रॉफी हॉकी में पहली बार भारतीय महिलाओं को चीन की टीम ने रोमांच से भरे हुए मैच में 2-3 से हरा दिया था. हार के बावजूद पहले ही फाइनल में पहुंच चुकी भारतीय टीम खिताब के लिए अब एक बार फिर शनिवार को चीन के खिलाफ ताल ठोकेगी, जिसमें हार का बदला लेने के साथ किताब जीतने का मौका रहेगा.

गौरतलब है कि दोनों ही टीमों ने शुरुआत से आक्रामक और कलात्मक खेल का मिश्रित प्रदर्शन कर दर्शकों को खुश कर दिया. मैच के दौरान पहले हाफ में भारतीय टीम का दबदबा रहा लेकिन दूसरे हाफ में चीन ने मजबूत शुरुआत की और 35वें मिनट में यांग चेन ने शानदार गोल करते हुए टीम को 1-0 की बढ़त दिला दी. हालांकि भारतीय रक्षात्मक पंक्ति ने इसके बाद आपसी तालमेल का बेहतरीन प्रदर्शन किया, लेकिन चौथे क्वार्टर की शुरुआत में 51वें मिनट में क्यू गुओ ने भारतीय डी में घुसकर गोलकीपर रजनी को गच्चा देते हुए बढ़त को 2-0 कर दिया.

भारतीय महिलाओं ने भी जुझारूपन दिखाते हुए अगले ही मिनट में पूनम रानी ने पेनल्टी कॉर्नर को गोल में तब्दील करते हुए बढ़त घटाकर 1-2 कर दी. कप्तान वंदना कटारिया ने 55वें मिनट में गोल कर बराबरी दिला दी, लेकिन 58वें मिनट में मिले पेनल्टी कार्नर पर चीनी टीम ने गोल दागकर जीत हासिल कर ली.

बता दें कि यह मैच भारत की अनुराधा देवी थोकचोम के लिए यादगार मौका था, जो अपना 100वां अंतरराष्ट्रीय मुकाबला खेलने उतरी थीं, लेकिन टीम उन्हें जीत का उपहार नहीं दे पाई.

भारतीय महिला हॉकी टीम ने कनाडा को 3-1...

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -