एशियन गेम्स-2018: पहली बार कोई भारतीय महिला बैडमिंटन के फाइनल में

Aug 27 2018 01:31 PM
एशियन गेम्स-2018: पहली बार कोई भारतीय महिला बैडमिंटन के फाइनल में

नई दिल्ली : एशियन गेम्स में भारत का शानदार प्रदर्शन जारी है. पीवी सिंधु ने यहाँ इतिहास रच दिया है. सिंधु विश्व नंबर-2 यामागुची को रौंदकर फाइनल में पहुंची. वहीं भारत की स्टार महिला शटलर साइना नेहवाल ने आज ब्रॉन्ज मेडल जीता. वह इस स्पर्धा में मेडल जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बन चुकी है.

पोलार्ड का धमाका एक ओवर में बनाए 30 रन

वह बैडमिंटन महिला फाइनल्स में पहुंचने वाली एशियाई खेलों के इतिहास में भारत की पहली शटलर बनी. ओलंपिक मेडलिस्ट पी वी सिंधु ने सोमवार को सेमीफाइनल में विश्व नंबर-2 जापान की अकाने यामागुची को कड़े मुकाबले में 21-17, 15-21, 21-10 से हराया. अब फाइनल में सिंधु का मुकाबला विश्व की नंबर-1 चीनी ताइपे की ताई जू यिंग से होगा, जिन्होंने आज पहले सेमीफाइनल में भारत की साइना नेहवाल को सीधे सेटों में 21-17, 21-14 से हराकर बाहर किया.

1982 के बाद भारत ने जीता घुड़सवारी में मैडल

वहीं साइना नेहवाल को सोमवार को महिला सिंगल्स के सेमीफाइनल में विश्व की नंबर-1 चीनी ताइपे की ताई जू यिंग ने हराया. जिसके बाद उन्हें ब्रॉन्ज मेडल से ही संतुष्टि करनी पड़ी. यह पहला मौका है जब इन एशियाई खेलों के बैडमिंटन स्पर्धा के महिला एकल में भारत को किसी तरह का मेडल मिला है. भारतीय शटलर यहाँ जीबीके स्टेडियम में शीर्ष वरीय ताई जू यिं के हाथों सीधे सेटों में 17-21, 14-21 से पराजित हुईं. बता दें कि इस स्पर्धा में भारत का यह 7वां मेडल है. 

खबरे और भी...

एशियन गेम्स 2018 : हिमा दास, अनस और दुती चंद ने जीता सिल्वर

जन्मदिन विशेष : सचिन में अपनी झलक देखते थे सर डॉन ब्रेडमैन

महान खिलाडी जॉर्ज ब्रैडमैन के सम्मान में गूगल ने बदला डूडल

?