क्या सचमुच वानर सेना ने बनाया था राम सेतु ? ASI चलाएगा अंडर वाटर प्रोजेक्ट

Jan 14 2021 12:28 PM
क्या सचमुच वानर सेना ने बनाया था राम सेतु ? ASI चलाएगा अंडर वाटर प्रोजेक्ट

नई दिल्ली: राम सेतु कहलाने वाली भारत और श्रीलंका के बीच पत्थरों की श्रृंखला कब और कैसे बनी, इसका पता करने के लिए पानी के नीचे एक प्रोजेक्ट चलाया जाएगा। इस प्रोजेक्ट पर काम कर रहे वैज्ञानिकों ने कहा कि यह रामायण काल के संबंध में पता करने में सहायता कर सकता है। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) के तहत पुरातत्व पर केंद्रीय सलाहकार बोर्ड ने पिछले महीने CSIR, राष्ट्रीय समुद्र विज्ञान संस्थान गोवा, (NIO) द्वारा प्रस्ताव को स्वीकृति दी थी।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, NIO के डायरेक्टर, प्रोफेसर सुनील कुमार सिंह ने जानकारी देते हुए बताया है कि प्रस्तावित अध्ययन भूवैज्ञानिक काल और अन्य सहायक पर्यावरणीय आंकड़ों के लिए पुरातात्विक पुरातन, रेडियोमेट्रिक और थर्मोल्यूमिनिसे (टीएल) पर आधारित होगा। मूंगा वाले कैल्शियम कार्बोनेट की सहायता से संरचना के निर्माण समय का पता लगाया जाएगा। बता दें कि रेडियोमैट्रिक डेटिंग किसी वस्तु की उम्र का पता लगाने के लिए रेडियोएक्टिव अशुद्धियों की जांच करता है। जब किसी वस्तु को गर्म किया जाता है तो TL डेटिंग प्रकाश का अध्ययन करती है।

बता दें कि यह प्रोजेक्ट चुनाव आधारित राज्य से परे धार्मिक और सियासी महत्व रखता है। हिन्दुओं की धार्मिक पुस्तक 'रामायण' में कहा गया है कि "वानर सेना" ने राम को लंका पार कराने और सीता को बचाने में सहायता करने के लिए समुद्र पर एक पुल तैयार किया था। चूना पत्थर के शोलों की 48 किमी की श्रृंखला को रामायण ’के साथ जोड़ दिया गया है। यह इस दावे पर टिका है - कि यह मानव निर्मित है। 2007 में, ASI ने कहा था कि उसे इसका कोई प्रमाण नहीं मिला है। बाद में, इसने सुप्रीम कोर्ट में यह हलफनामा वापस ले लिया।

कांग्रेस नेता सज्जन सिंह वर्मा को NCPCR ने थमाया नोटिस, जानिए पूरा मामला

सोने-चांदी की वायदा कीमतों में भारी गिरावट, जानिए क्या हैं भाव

कोचीन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुंची पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ कोविदशील्ड वैक्सीन की पहली खेप