देखते ही देखते पंडित बन गया राख

Nov 20 2016 06:48 AM
देखते ही देखते पंडित बन गया राख

नागपुरः लोगों के लाख बचाने के कारण भी उसने सबसे पहले तो अपनी चिता को अच्छे से सजाया और फिर लोगों के मना करने के कारण भी यह शख्स चिता पर लेटकर खुद को आग लगा लिया। इस दौरान लोगों ने उसे बचाने की तमाम कोशिश की, लेकिन देखते ही देखते शख्स पूरी तरह राख हो गया।

हिंगोली जिले में रहने वाले 60 वर्षीय सुरेगांव महादेव एक मंदिर में पुजारी था। यह अकेले ही रहता था। और दो-साल पहले ही पंडित ने अपना घर परिवार छोड़ दिया था। शनिवार की सुबह जब लोग औंढा-हिंगोली रास्ते से जा रहे थे तो कुछ यात्रियों को मंदिर से धुआं निकलता दिखा। फिर यात्रि ने गांव में इसकी ग्रामीणों को दी तो पूरा गांव मंदिर की तरफ भागा।

जब तक ग्रामीण पंडित के पास पहुंचे तब तक पंडित अपनी चिता पर आग लगा कर लेट चुका था और खुद को आग भी लगा चुका था। लोगो के लाख मना करने के बाद भी पंडित ने अपनी मन कि की और देखते ही देखते पंडित कुछ ही समय में राख बन गया। महाराज को एक लड़का व एक लड़की है घर की स्थिति भी बहुत अच्छी है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

नीतीश के बदले तेवर, आये बीजेपी के समर्थन में