स्वास्थ्य संस्थाओं ने दी बड़ी चेतावनी, बिना कोरोना ट्रेसिंग के लॉकडाउन खोलना पड़ सकता है भारी

बीजिंग: एकाएक दुनियाभर में लगातार बढ़ती जा रही कोरोना वायरस की समस्या से आज के समय में हर कोई परेशान है वहीं इस वायरस के बढ़ते प्रकोप और महामारी की चपेट में आने से आज न जाने ऐसे कितने लोग है जिनकी जाने जा चुकी है, इतना ही नहीं इस वायरस की चपेट में आने कर रोज लाखों की तादाद में लोग संक्रमित हो रहे है, वहीं कोरोना वायरस से दुनियाभर में मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ता ही जा रहा है जिसके कारण आज पूरा मानवीय पहलू तबाही की छोर  पर आ खड़ा हुआ है. आज इस वायरस की चपेट में आने से 2 लाख 87 हजार से अधिक लोगों की जान जा चुकी है. और अब भी इस बात को खुलकर नहीं कहा जा सकता है कि इस वायरस से कब तक निजात मिल पाएगा और हालात ने कब सुधार होगा. 

कोरोना महामारी की वजह से पिछले कुछ महीनों से ठप्प पड़े कई मुल्क अब वापस से खुलने लगे हैं. दिसंबर में चीन के वुहान से फैले जानलेवा वायरस की वजह से दुनियाभर में 200 से अधिक देश प्रभावित हुए जिसके बाद कइयों ने सतर्कता बरतते हुए लॉकडाउन लगाने का फैसला किया. हालांकि इससे कुछ अधिक लाभ नहीं दिखा और कोरोना से प्रभावित लोगों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी होती रही, वहीं लॉकडाउन की वजह से कई मुल्कों की अर्थव्यवस्था पर भी बुरा असर हुआ. ऐसे में अब कई देशों ने अपने यहां से या तो लॉकडाउन को हटाने का फैसला किया है या कइयों ने इसमें ढील देने की तैयारी कर ली है.

लेकिन विश्व के एक शीर्ष स्वास्थ्य अधिकारी ने सोमवार को चेतावनी दी कि अगर कोरोना संक्रमितों के संपर्क में आए लोगों की जांच किए बगैर लॉकडाउन खोला गया तो ये बहुत खतरनाक होगा और कोरोना को रोकना मुश्किल होगा. फ्रांस और बेल्जियम द्वारा लॉकडाउन खोलने, नीदरलैंड द्वारा बच्चों को स्कूल भेजने और कई अमेरिकी राज्यों द्वारा व्यापारिक प्रतिबंध हटाकर आगे बढ़ने के फैसले के बाद यह चेतावनी जारी की गई है. अधिकारियों ने आगाह किया है कि बिना व्यापक परीक्षण और संक्रमित लोगों के संपर्क में आए लोगों का पता लगाए बगैर संक्रमण फिर से तेजी से फैल सकता है. जर्मनी, दक्षिण कोरिया और चीन के वुहान में इसका परिणाम भी देखने को मिला जब यहां लॉकडाउन खोलने के बाद फिर से संक्रमण के मामले सामने आने शुरू हो गए. लॉकडाउन खोलने को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) भी लगातार चेतावनी जारी कर रहा है और वायरस के प्रभाव को लेकर भी सचेत कर रहा है. फिलहाल कोरोना से दुनियाभर में 42 लाख से अधिक लोग संक्रमित हैं और दो लाख से अधिक मौतें हुई हैं. इसमें अमेरिका में ही सिर्फ 80 हजार से अधिक लोगों की जान गई है.

कोरोना वायरस के परीक्षण में अरबो रूपये खर्च करेगा ट्रम्प प्रशासन

तो क्या इन 5 देशों जैसी हो जाएगी लॉकडाउन के बाद भारतीयों की जिंदगी?

कोरोना: सऊदी अरब पर भी मंडराया आर्थिक संकट, कई वस्तुओं पर तीन गुना किया टैक्स

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -