दुनिया भर में नदियों को दूषित होने से बचाने के लिए मनाया जाता है 'विश्व नदी दिवस'

नदियां हमारे जीवन का अभिन्न अंग कही जाती हैं। नदियां जीवन दायिनी हैं। प्राकृतिक रुप से बहुत सारे जीव-जन्तु और प्राणी जल के लिए नदियों पर ही  बना हुआ है, लेकिन पर्यावरण में बढ़ता जा रहा प्रदूषण नदियों के लिए अभिषाप बनता जा रहा है। सबको जीवन देने वाली नदियों का अस्तित्व खुद संकट में हैं। कुछ नदियां अत्यधिक प्रदूषित हो गई  हैं तो कुछ पूरी तरह से लुप्त होने की कगार पर आ चुकी है। ऐसे में नदियों का सरंक्षण करना अति जरूरी हो गया है। प्रतिवर्ष सितंबर के अंतिम हफ्ते के रविवार को वर्ल्ड रिवर्स डे सेलिब्रेट किया जाता है। इस बार 2021 में वर्ल्ड रिवर्स डे  26 सितंबर रविवार को सेलिब्रेट किया जा रहा है। तो चलिए जानते हैं कि क्यों मनाया जाता है विश्व नदी दिवस क्या है इसका महत्व...

भारत सहित विश्व के कई देशों में वर्ल्ड रिवर्स डे सेलिब्रेट किया जाता है। इस दिवस की शरुआत 2005 में नदियों की रक्षा के संकल्प को लेकर ही की गई थी।इंडिया सहित विश्वभर के कई देशों में विश्व नदी दिवस सेलिब्रेट किया जाता है। हमारे देश सहित अमेरिका, पोलैंड, दक्षिण अफ्रिका, ऑस्ट्रेलिया, मलेशिया, बांग्लादेश कनाडा और ब्रिटेन आदि देशों में विश्व नदी दिवस पर नदियों की रक्षा के लिए कार्यक्रमों को आयोजित किया जाता है।

विश्व नदी दिवस का महत्व:  लेकिन रोजाना बढ़ते जा रहे प्रदूषण के कारण से नदियों का जल भी प्रदूषित होता जा रहा है। प्रदूषण के कारण जलवायु में भी परिवर्तन हुआ है जिसकी वजह से कई नदियां सिकुड़ती हुई नज़र आ रही है। वर्ल्ड रिवर्स डे पर कई देश के लाखों लोग और कई अंतर्राष्ट्रीय संगठन नदियों के बचाव के लिए अपना योगदान देते हैं। इस दिन लोग संकल्प लेते हैं कि वे नदियों को प्रदूषित नहीं करेंगे और उन्हें प्रदूषित नहीं होने देंगे। यहा दिन लोगों में नदियों के महत्व उसकी स्वच्छता के प्रति जागरुकता को और भी बढ़ाना है।

वर्ल्ड रिवर्स डे पर सभी देश एक जुट होकर नदियों के सरंक्षण के विषय पर भी चर्चा करते है। इस दिन को एक पर्व की तरह भी सेलिब्रेट किया जाता है। विश्वभर के कम से कम 60 देशों में विश्व नदी दिवस पर आयोजन किए जाते हैं जिसमें लोग बढ़चढ़ कर भाग लेते हैं। इसमें नदियों की सफाई करने से लेकर रिवर राफ्टिंग जैस कार्यक्रम शामिल होते है। जिसमें लोग नदियों की सफाई के साथ नदियों में घूमने का लुफ्त भी उठाते हैं।

राजनाथ सिंह ने कहा- "अफगानिस्तान की घटनाओं से राज्य के ढांचे में बदलाव... "

14 वर्ष से कम आयु के बच्चों की भीड़ से आयरलैंड में बढ़ रहा कोरोना का संक्रमण

क्लिनिकल परीक्षण में सामने आया, चीनी वैक्सीन कोरोना से लड़ने में अधिक प्रभावी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -