क्या वाकई आरोग्य सेतु एप लोगों की कर रहा जासूसी ? जानें सच

लॉकडाउन और कोरोना संकट के बीच नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने कहा है कि कोविड संपर्क का पता लगाने वाले एप आरोग्य सेतु ने सरकार को देशभर में 650 से ज्यादा हॉटस्पॉट के बारे में सचेत किया है. ये हॉटस्पॉट नजरअंदाज हो सकते थे.अमिताभ कांत ने यह भी दावा किया कि अब सभी सरकारी कर्मचारियों के लिए अनिवार्य हो चुके एप ने 300 से ज्यादा उभरने वाले हॉटस्पॉट के बारे में चेतावनी दी है जिससे सरकार को तेजी से कदम उठाने में मदद मिली है.

शर्मनाक: अपनी ही पत्नी और बेटे को युवक ने उतारा मौत के घाट

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी द्वारा इस एप का नागरिकों की जासूसी में इस्तेमाल किए जाने का आरोप लगाने के बाद यह संदेह के घेरे में आ गया था. सरकार ने कांग्रेस नेता के आरोप को सिरे से खारिज कर दिया.

कोरोना महामारी के बीच उत्तराखंड में बदला मौसम, भारी बारिश के साथ ओलावृष्टि की चेतावनी

इस मामले को लेकर कांत ने ट्वीट किया है, ‘आरोग्य सेतु एप एक उन्नत निगरानी प्रणाली है. एक प्राइवेट आपरेटर को आउटसोर्स किया गया है. बिना किसी संस्थागत निगरानी के डाटा सिक्यूरिटी प्राइवेसी की चिंता जताई गई है. तकनीक हमें सुरक्षित रख सकती है, लेकिन नागरिकों की सहमति के बगैर भय का फायदा नहीं उठाया जाना चाहिए.’

अमित शाह के स्वास्थय को लेकर अफवाह फ़ैलाने के जुर्म के चार गिरफ्तार

Video: क्रैश हुआ मिग-29 विमान, खेत में गिरा पायलट, मदद के लिए दौड़े आए सिख

हरियाणा के इन जिलों में बढ़ा कोरोना का कहर

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -