+

JNU में शहीदों के नाम का वॉल ऑफ फेम बनाया जाना चाहिए : पूर्व सैनिक

JNU में शहीदों के नाम का वॉल ऑफ फेम बनाया जाना चाहिए : पूर्व सैनिक

नई दिल्ली : देश विरोधी नारे को लेकर चर्चा में चल रहे जेएनयू के संबंध में फौजियों ने भी अपने विचार रखे है। उन्होने जेएनयू के छात्रों के बीच देशभक्ति का पैगाम देने के लिए एक उपाय सुझाया है। फौजियों का कहना है कि जेएनयू में आर्मी टैंक रखा जाए और साथ ही आर्मी मेमोरियल बनाया जाए। देश के पूर्व सैनिकों ने जेएनयू प्रशासन को ये सलाह दिए है।

मंगलवार को पूर्व सैनिय व अधिकारियों के एक ग्रुप ने जेएनयू के वीसी जगदीश कुमार से मुलाकात की। इस मुलाकात की जानकारी रजिस्टार भूपिंदर जुत्शी ने बुधवार को मीडिया को दी। जुत्शी ने कहा कि हम सैनिकों द्वारा सुझाए गए उपायों के बारें में गंभीरता से विचार कर रहे है।

जुत्शी ने कहा कि हम कई तरीके अपनाने पर विचार कर रहे हैं। इसमें एक वॉल ऑफ फेम भी शामिल है। इस पर शहीद हुए सैनिकों के नाम और फोटोग्राफ्स लगाए जाएंगे। इसके अलावा, एक टैंक भी यहां लगाया जा सकता है। एडमिनिस्ट्रेशन स्टूडेंट्स और आर्मी अफसरों के बीच कम्युनिकेशन शुरू करने पर भी विचार कर रहा है।

लेफ्टिनेंट जनरल निरंजन मलिक ने कहा कि सैनिकों औऱ छात्रों के बीच मुलाकातें शुरु की जानी चाहिए और इन्हें रुटीन प्रोसेस बनाया जाना चाहिए। मेजर जी डी बख्शी ने कहा कि देश कई लोगों से मिलकर बनता है, यदि आप कश्मीर या मणिपुर के लोगों को काटने की कोशिश करेंगे, तो खून ही बहेगा।