घमौरियों से हो गए है परेशान? तो अपना लें ये घरेलू नुस्खे

घमौरियों से हो गए है परेशान? तो अपना लें ये घरेलू नुस्खे
Share:

उत्तर भारत के अधिकांश हिस्सों में तापमान 45 डिग्री सेल्सियस से ऊपर पहुंच गया है, राजधानी दिल्ली में तापमान 50 डिग्री सेल्सियस से अधिक दर्ज किया गया है। भीषण गर्मी, चिलचिलाती धूप और हीट स्ट्रोक के खतरे के कारण कई इलाकों में रेड अलर्ट जारी किया गया है। इस भीषण गर्मी में पसीना आना और शरीर से दुर्गंध आना आम बात हो गई है। हालांकि, असली परेशानी तब होती है जब घमौरियां होते हैं, जिससे त्वचा पर खुजली और जलन होती है। बच्चों में होने वाले ये रैशेज वयस्कों के लिए भी परेशानी का सबब बन जाते हैं।

क्या आपने कभी सोचा है कि घमौरियां क्यों होते हैं? या उन्हें कम करने के लिए कौन से घरेलू उपाय अपनाए जा सकते हैं? यहां, हम घमौरियां से राहत पाने के लिए कुछ कारगर घरेलू उपाय बता रहे हैं:

घमौरियां के कारण:
एक्सपर्ट्स कहते है कि अत्यधिक गर्मी के कारण शरीर से पसीना अधिक निकलता है। जब पसीना बिना उचित वाष्पीकरण के पीठ, अंडरआर्म्स या गर्दन पर जमा हो जाता है, तो इससे बैक्टीरिया पनप सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप लाल चकत्ते हो सकते हैं, जिन्हें आमतौर पर घमौरियां के रूप में जाना जाता है।

घमौरियां के लिए घरेलू उपचार:
एलोवेरा जेल लगाएं:

गर्मी के मौसम में घमौरियां होना आम बात है, लेकिन ये उत्पादकता को प्रभावित कर सकते हैं। बच्चों को अक्सर उनकी त्वचा नरम होने के कारण इसका खामियाजा भुगतना पड़ता है। हालांकि, एलोवेरा जेल जैसे पदार्थों का उपयोग करके राहत पाई जा सकती है। एलोवेरा को सीधे प्रभावित क्षेत्रों जैसे पीठ या अन्य हिस्सों पर लगाने से राहत मिल सकती है। एलोवेरा में जीवाणुरोधी और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं, जो प्राकृतिक रूप से त्वचा की मरम्मत में मदद करते हैं।

नीम के पत्ते:
नीम के पत्ते, जो अपने औषधीय गुणों के लिए जाने जाते हैं, फोड़े या घमौरियां के लिए एक प्रभावी या कुशल उपचार माने जाते हैं। नीम के पत्तों में जीवाणुरोधी और सूजन रोधी गुण होते हैं और इनका ठंडा प्रभाव भी होता है। घमौरियां का इलाज करने के लिए, प्रभावित त्वचा पर नीम का पेस्ट लगाया जा सकता है। सोने से पहले ऐसा करने की सलाह दी जाती है क्योंकि नींद के दौरान त्वचा तेजी से ठीक होती है। वैकल्पिक रूप से, आप नहाने से पहले पेस्ट लगा सकते हैं और इसे कम से कम 15 मिनट तक लगा रहने दें।

चंदन पाउडर:
चंदन पाउडर, जो अपने ठंडक देने वाले गुणों के लिए जाना जाता है, त्वचा की देखभाल में सहायक है। यह गर्मी के कारण होने वाले रैशेज को कम करता है और लंबे समय तक त्वचा को ठंडा रखता है। त्वचा की देखभाल के लिए चंदन आधारित उत्पादों का इस्तेमाल तेजी से किया जा रहा है, ताकि त्वचा में चमक बनी रहे। आयुर्वेद में, चंदन को त्वचा की देखभाल के लिए सबसे अच्छा माना जाता है। गर्मी के कारण होने वाले रैशेज का इलाज करने के लिए, चंदन पाउडर और गुलाब जल का पेस्ट बनाएं और इसे प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।

मुल्तानी मिट्टी (फुलर की मिट्टी) उपाय:
फुलर की मिट्टी या मुल्तानी मिट्टी का इस्तेमाल भी गर्मी के कारण होने वाले रैशेज से निपटने के लिए किया जा सकता है। यह ठंडक प्रदान करता है और त्वचा की मरम्मत में मदद करता है। गर्मी के मौसम में, मुल्तानी मिट्टी से त्वचा की देखभाल सबसे अच्छी मानी जाती है। इसके इस्तेमाल से आप अपनी त्वचा में खोई हुई चमक और कोमलता वापस पा सकते हैं।

स्वच्छता बनाए रखें:
गर्मी के कारण होने वाले रैशेज को कम करने या खत्म करने के लिए, साफ-सफाई बनाए रखना जरूरी है। गर्मी और गंदगी के कारण पसीना ठीक से वाष्पित नहीं हो पाता है, जिससे गर्मी के कारण रैशेज हो जाते हैं। इसलिए, गर्मी के मौसम में, दिन में कम से कम दो बार स्नान करना उचित है। पानी में नीम, तुलसी या एलोवेरा जेल मिलाने से इसकी प्रभावशीलता बढ़ सकती है।

अंत में, जबकि उत्तर भारत में चिलचिलाती गर्मी के कारण हीट रैश जैसी कई त्वचा संबंधी समस्याएं हो सकती हैं, इन सरल लेकिन प्रभावी घरेलू उपायों को अपनाने से राहत मिल सकती है और आगे की परेशानी को रोका जा सकता है। एलोवेरा, नीम, चंदन और फुलर अर्थ जैसी प्राकृतिक सामग्री को अपनी स्किनकेयर रूटीन में शामिल करके और उचित स्वच्छता बनाए रखकर, आप हीट रैश को कम कर सकते हैं और आरामदायक गर्मियों का आनंद ले सकते हैं।

दो मुंहे बालों से हैं परेशान तो अपना लें ये ट्रिक्स? ऐसे पाएं छुटकारा

आपके घर में भी हैं छोटे बच्चे? तो घर में जरूर लगाएं ये हर्ब्स

गर्मी की वजह से ज्यादा पानी पीने पर भी हो सकती है परेशानी, शरीर में हो सकती है इन चीजों की कमी

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -