मक्का मस्जिद में बड़ा हादसा अभी तक 717 मौते, संख्या अभी बढ़ सकती है

मक्का: सऊदी अरब की पवित्र मस्जिद में जायरिन हज की नमाज अता करने पहुंचे। इस दौरान जब मुस्लिम धर्मावलंबी मस्जिद में इबादत करने के बाद शैतान को कंकर मारने पहुंचे तो इसी दौरान हादसा हो गया। अचानक भगदड़ मच गई और लोग एक दूसरे के पैरों तले रौंद दिए गए। मक्का में मची भगदड़ में घायलों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। बताया जा रहा है कि घायलों की संख्या लगभग 863 तक पहुंच गई है। जैसे - जैसे राहत कार्य तेज होता जा रहा है लोगों को निकालकर अस्पताल पहुंचाया जा रहा है। इस बीच यह खबर सामने आई है कि मीना में 2 भारतीय घायल हुए। हादसे में अब तक 717 लोगों के मरने की बात सामने आई है। माना जा रहा है कि यह संख्या और बढ़ सकती है। मौके पर पहुंचे राहत दल द्वारा राहत कार्य किया जा रहा है। माना जा रहा है कि अंधेरा होने पर राहत कार्य में कुछ परेशानी हो सकती है। 

मक्का के मीना में शैतान को पत्थर मारने की परंपरा के अंतर्गत जमकर भगदड़ मची। हज की यात्रा का आज आखिरी दिन था। ईद - उल - अजहा के मौके पर मुस्लिमजन यहां पहुंचे थें मगर इसी दौरान हादसा हो गया। इस हादसे में अब तक करीब 717 से अधिक लोग मारे गए वहीं 863 से अधिक लोग घायल हो गए, घायलों को चिकित्सालय ले जाया गया। उल्लेखनीय है कि वर्ष 2006 और इसके पहले भी यहां हादसे होते रहे हैं। यही नहीं कुछ महीनों पहले यहां क्रेन गिरने से करीब 100 लोगों की मौत हो गई। उल्लेखनीय है कि परंपरा के अनुसार हजयात्री शैतान को 3 पत्थर मारते हैं। शैतान तीन विशाल शिला स्तंभ के तौर पर माना जाता है।

हज यात्री कंकड़ एकत्रित कर इन स्तंभों पर मारते हैं। कहा जाता है कि शैतान अब्राहम, उनकी पत्नी हेगर और पुत्र इशामल के सामने पहुंचा था। मस्जिद में भगदड़ मचने से हुए हादसे को लेकर राहत कार्य किया जा रहा है। राहत दल ने दम घुटने  से मरने वालों को उपचार दिया गया। दूसरी ओर इस हादसे के बाद करीब 4000 राहतकर्मियों का दल मौके पर रवाना कर दिया गया है। 

- Sponsored Advert -

Most Popular

मुख्य समाचार

- Sponsored Advert -