एससी में अपील - राम मंदिर की जगह बने सार्वजनिक ईमारत

Dec 05 2017 02:26 PM
एससी में अपील - राम मंदिर की जगह बने सार्वजनिक ईमारत

नईदिल्ली। सर्वोच्च न्यायालय में श्री रामजन्म भूमि मंदिर एवं बाबरी मस्जिद के विवाद को लेकर आज सुनवाई की जाएगी। मगर इसी बीच जानकारी आई है कि, इस मामले को लेकर एक और याचिका दायर कर दी गई है। यह याचिका सिटीजन फाॅर जस्टिस एंड पीस द्वारा दायर की गई है। इस संगठन में लोकप्रिय फिल्म निर्माता - निर्देशक श्याम बेनेगल व तीस्ता सीतलवाड़ के साथ ओम थानवी आदि शामिल है

याचिका में अपील की गई है कि, जो सुनवाई, श्री राम जन्मभूमि मंदिर और बाबरी मस्जिद के विवादित विषय को लेकर की जा रही है, उसे टाल दिया जाए और, यहां एक सार्वजनिक इमारत का निर्माण कर दिया जाए। मिली जानकारी के अनुसार, बाबरी मस्जिद विध्वंस की 25वीं वर्षगांठ से ठीक एक दिन पहले सुप्रीम कोर्ट में रामजन्म भूमि मंदिर व बाबरी मस्जिद स्वामित्व विवाद पर सुनवाई शुरू की जाएगी।

न्यायाधीशों की जो बेंच सुनवाई करेगी, उसमें चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के अलावा जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एस अब्दुल नजीर आदि शामिल होंगे। न्यायाधीशों द्वारा लगभग 9 हजार पन्नों के प्राप्त दस्तावेज और 90 हजार पन्नों में दर्ज गवाहियों पर गौर किया गया है। इन बातों को ध्यान में रखते हुए, न्यायालय अपना निर्णय सुनाएगा। संभावना है कि, निर्णय को लेकर न्यायालय अलगी तारीख भी दे सकता है।

गौरतलब है कि, सर्वोच्च न्यायालय ने कहा था कि यदि, संबंधित पक्ष इस मामले को न्यायालय के बाहर सुलझा लें तो यह अधिक उचित है। यदि विभिन्न पक्षों को इस मामले में मध्यस्थ की आवश्यकता होगी तो, न्यायालय मध्यस्थ उपलब्ध करवा सकता है। इसके बाद, कई लोगों ने इस मसले पर विभिन्न पक्षों से चर्चा की पहल की।

आध्यात्मिक गुरू श्री श्री रविशंकर ने भी इस मामले में पहल की और, शिया वक्फ बोर्ड के पदाधिकारियों, अखाड़ों के साधु - संतों समेत कई लोगों से चर्चा की। बाद में कथित तौर पर, उन्हें इस मामले में कुछ न कहने के लिए कहा गया था। बहरहाल इस मामले से जुड़े पक्षकारों को आज दोपहर में होने वाली सुनवाई का इंतज़ार है।

सरकार पर गिरी पद्मावती की गाज

प्रतिबंध के बाद भी महिला ने फोन पर दिया तलाक

एससी ने केजरीवाल पर निर्मित, डाॅक्युमेंट्री पर दिया फैसला