'नवरात्री समारोह' देखने दुर्गा मंदिर पहुंचे हिन्दू श्रद्धालु, वहां चल रहा था 'ईसाई' उपदेश

विशाखापत्तनम: आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में नवरात्री उत्सव के दौरान हिंदू श्रद्धालु कनक दुर्गा मंदिर मैं लगाई गई LED स्क्रीन पर ईसाई उपदेश का वीडियो देखकर दंग रह गए।  दरअसल हजारों हिंदू उस समय नवरात्री का उत्सव देखने के लिए आयोजन स्थल पर पहुंचे थे, किन्तु LED स्क्रीन पर नवरात्रि के पहले ही दिन ईसाई धर्म प्रचारक को देखकर वे आक्रोशित हो गए और उन्होंने स्क्रीन पर पत्थर फेंका शुरू कर दिए। 

ऐसे में भाजपा प्रवक्ता एसजी सूर्या ने ट्वीट करते हुए कहा है कि आक्रोशित भक्तों ने एलईडी स्क्रीन को तोड़ दिया है।  उन्होंने इस मामले के अपराधियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही करने की मांग भी की है।  उन्होंने लिखा है कि विजयवाड़ा के कनक दुर्गा मंदिर में लगाई गई LED स्क्रीन पर नवरात्रि पर्व के लाइव टेलीकास्ट के दौरान ईसाई उपदेशक को स्क्रीन पर दिखाने से गुस्साए हिंदुओं ने पथराव कर LED को तोड़ डाला। सूर्या ने स्थानीय लोगों पर संदेह जताते हुए कहा कि यह एक स्थानीय केबल ऑपरेटर का करतूत लगती है, जिसे यह काम सौंपा गया था। वहीं, कथित तौर पर कनक दुर्गा मंदिर के अधिकारियों ने प्रति वर्ष की तरह इस बार भी स्थानीय केबल ऑपरेटर को मंदिर परिसर की दीवारों पर लगी LED स्केल पर नवरात्री समारोह दिखाने के लिए करार किया था। 

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, अब आंध्र प्रदेश की पुलिस ने इस मामले में प्रकरण दर्ज कर लिया है और जिला कलेक्टर जे निवास का कहना है कि यह एक दुर्भाग्यपूर्ण मामला है और इसमें लापरवाही की गई है।  उन्होंने यह भी कहा है कि हम इसकी छानबीन कर रहे हैं, IPC की धारा 295 1a के तहत केस दर्ज कर लिया गया है और जांच आगे बढ़ने इसमें बदलाव किया जा सकता है। उन्होंने आगे कहा कि जब तक जांच पूरी नहीं हो जाती हम यह नहीं कह सकते कि यह साजिश है या फिर कुछ और। 

दक्षिण कोरिया के विदेश मंत्री जी20 बैठक में लेंगे भाग

जे-कश्मीर नेशनल कांफ्रेंस के पूर्व नेता देवेंदर राणा, सुरजीत सलथिया भाजपा में हुए शामिल

इस अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस पर लें 'बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओं का संकल्प'

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -