प्रख्यात लेखक आर के नारायण की पुण्यतिथि पर सादर नमन

आर के नारायण का जन्म 10 अक्टूबर साल 1906 को चेन्नई में हुआ था, उनका पूरा नाम राशीपुरम कृष्णास्वामी अय्यर नारायणस्वामी था. उनका परिवार उन्हें प्यार से कुंजप्पा कहकर बुलाता था. इनका बचपन अधिकतर अपनी नानी के घर गुजरा, प्रख्यात कार्टूनिस्ट आर के लक्ष्मण इन्ही के भाई थे. बचपन से ही आर के नारायण का मन किताबें पढ़ने में बहुत लगता था. वो अक्सर किताबें पढ़ा करते थे और फिर धीरे से उन्होंने लिखना शुरु कर दिया.

पहले आजीविका के लिए उन्होंने एक स्कूल में नौकरी की, लेकिन लेखन का शौक उनसे न छूटा, इसी कारण उन्होंने नौकरी छोड़ दी और अपना पूरा समय लेखन में लगा दिया. आर के नारायण की पहली पुस्तक का नाम स्वामी एंड फ्रेंड्स  था. इस नॉवेल में एक प्रसिद्द जगह थी जिसे उन्होंने मालगुडी नाम दिया था. आगे चलकर इसी मालगुडी के नाम पर हिंदी टीवी जगत का प्रसिद्ध नाटक मालगु़डी डेज बना. 

आर के नारायण के अपने जीवन में साहित्य एकेडमी अवार्ड, पद्म भूषण, पद्म विभूषण और ए सी बेनसन मेडल समेत अनेक पुरस्कार जीते. 1989 में आर के नारायण राज्यसभा के लिए भी चयनित किये गए थे. 13 मई 2001 को इस महान लेखक की मृत्यु हो गई, लेकिन अपनी रचनाओं में वे आज भी ज़िंदा हैं. 

Editor Desk: 'मंटो' दफ़्न है लेकिन कहानियां आज भी चीख रही है...

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -