19 वर्षों तक भगवान शिव की तरह 'विषपान' करते रहे पीएम मोदी

नई दिल्ली: पीएम नरेंद्र मोदी को गुजरात दंगों से संबंधित जाकिया जाफरी मामले में सुप्रीम कोर्ट से क्लीन चिट मिलने के बाद केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने इस मामले पर चुप्पी तोड़ी है। मीडिया से बातचीत के दौरान अमित शाह ने कहा है कि इतने सालों तक पीएम नरेंद्र मोदी भगवान शंकर की तरह विष पीते रहे। अमित शाह ने कहा कि पीएम मोदी 19 वर्षों तक बगैर कुछ बोले सब सहते रहे।  

गृह मंत्री ने पीएम मोदी का जिक्र करते हुए कहा कि देश का इतना बड़ा नेता एक शब्द बोले बिना सभी दुखों को भगवान शिव के विषपान की तरह गले में उतार कर लड़ता रहा और आज जब अंत में सत्य सोने की तरह, चमकता हुआ बाहर आया है तो आनंद होगा ही। अमित शाह ने आगे कहा कि मैंने पीएम मोदी को काफी करीब से इस दर्द को झेलते हुए देखा है और सब कुछ सत्य होने के बाद भी।  क्योंकि न्याय प्रक्रिया जारी थी, इसलिए हम कुछ नहीं बोलेंगे इस स्टैंड पर कोई मजबूत मन का आदमी ही चल सकता था। अमित शाह ने कहा कि 19 वर्षों के लम्बे अरसे के बाद सर्वोच्च न्यायालय खंडपीठ ने सारे आरोप खारिज कर दिए हैं।  

बता दें कि शुक्रवार को सर्वोच्च न्यायालय ने 2002 में गुजरात दंगों में तत्कालीन सीएम नरेंद्र मोदी को क्लीन चिट देने वाली SIT रिपोर्ट के खिलाफ दाखिल की गई याचिका को खारिज कर दिया था। ये याचिका जाकिया जाफरी द्वारा दायर की गई थी। अदालत ने SIT की जांच रिपोर्ट को सही ठहराते हुए जकिया की याचिका ख़ारिज कर दी थी। जाकिया जाफरी, कांग्रेस पार्टी के पूर्व सांसद अहसान जाफरी की पत्नी हैं, जिन्हे दंगों में मार डाला गया था। SIT की रिपोर्ट में राज्य के उच्च पदों पर बैठे लोगों को क्लीन चिट दी गयी थी। 

अग्निपथ: चाहे पूरा देश जल जाए, बस किसी तरह सत्ता मिल जाए...

राष्ट्रपति चुनाव से पहले ही विपक्ष में पड़ी फूट, यशवंत सिन्हा के नाम पर उखड़ा ये दल

आखिर क्या है 'अक्षय पात्र' योजना ? जिसे देखने के लिए 'काशी' जा रहे पीएम मोदी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -