प्रमुख ब्रोकरेज ने भारत के सकल घरेलू उत्पाद के पूर्वानुमान को किया डाउनग्रेड

Apr 19 2021 09:46 AM
प्रमुख ब्रोकरेज ने भारत के सकल घरेलू उत्पाद के पूर्वानुमान को किया डाउनग्रेड

कोविड-19 के मामलों के उभरने के साथ ही वित्तीय बहाली के लिए जोखिम पैदा हो गया है, मुख्य ब्रोकरेजों ने वर्तमान वित्तीय वर्ष के लिए भारत के सकल घरेलू उत्पाद के विकास के अनुमानों को घटा दिया है, जो कि कमजोर बहाली की धमकी दे रहे देशी लॉकडाउन पर 10 पीसी है। जहां नोमुरा ने मार्च 2022 में समाप्त होने वाले आर्थिक विकास के अनुमानों को 13.5 प्रतिशत से घटाकर 12.6 प्रतिशत कर दिया है, वहीं जेपी मॉर्गन अब 13 प्रतिशत से पहले जीडीपी वृद्धि को 11 प्रतिशत पर रखता है।

यूबीएस 10 प्रतिशत जीडीपी विकास दर देखता है, जो पहले 11.5 प्रतिशत से नीचे था और सिटी ने 12 प्रतिशत की वृद्धि दर को घटा दिया है। पिछले साल की शुरुआत में महामारी के आने से पहले भी भारत की जीडीपी वृद्धि में गिरावट आई थी। वित्त वर्ष 17 में 8.3 प्रतिशत की वृद्धि दर से, जीडीपी का विस्तार घटकर 6.8 प्रतिशत और अगले दो वर्षों में 6.5 प्रतिशत और 2019-20 में 4 प्रतिशत रह गया। कोविड द्वारा तबाह 2020-21 वित्त वर्ष (अप्रैल 2020 से मार्च 2021) में, अर्थव्यवस्था को 8 प्रतिशत तक अनुबंधित करने का अनुमान है।

 FY'21 के निम्न आधार को चालू वित्त वर्ष में वित्त वर्ष 2014 में 6.8 प्रतिशत पर मॉडरेट करने से पहले दो अंकों की विकास दर में वृद्धि देखी गई थी। RBI ने FY'22 जीडीपी विकास दर 10.5 प्रतिशत बताई है, जबकि IMF इसे 12.5 प्रतिशत पर रखता है। विश्व बैंक ने 2021-22 की वृद्धि 10.1 प्रतिशत देखी। पिछले एक पखवाड़े से भारत में महामारी काजेलोड हर रोज नए रिकॉर्ड बना रहा है। नवीनतम आधिकारिक संख्या पिछले 24 घंटों में 2.61 लाख और दैनिक मृत्यु दर 1,501 दर्ज करती है।

कोरोना को मात देने आई 'AAYUDH Advance', महज 4 दिनों में ठीक हो रहे मरीज

कोविड सेंटर में भी सुरक्षित नहीं महिलाएं, संक्रमित महिला के साथ वार्ड बॉय ने की दुष्कर्म की कोशिश

राजस्थान में 3 मई तक सख्त पाबंदियां लागू, जानिए क्या रहेगा चालू और क्या बंद